हरदा में 6 हिरणों के शिकार से मचा हड़कंप, हिरणों के सींग और अन्य अंग भी काट ले गए शिकारी

वन विभाग के अधिकारियों ने पानी में जहर देकर हिरणों के शिकार की आशंका जताई, बिश्नोई समाज ने दोषियों के खिलाफ सख्त सजा की मांग की  

Publish: Jun 05, 2022, 10:21 AM IST

हरदा में 6 हिरणों के शिकार से मचा हड़कंप, हिरणों के सींग और अन्य अंग भी काट ले गए शिकारी

भोपाल। 
हरदा जिले के गाँव नीमसराय में 6 हिरणों के शव मिलने से हड़कंप मच गया है। 6 हिरणों में से 3 नर काले हिरण हैं जबकि 3 मादा हिरण हैं। शिकारी इन हिरणों के सींग  और अन्य अंग भी काटकर अपने साथ ले गए। सूचना मिलने पर घटनास्थल पहुंचे वन विभाग के अधिकारियों ने आशंका जताई है कि इन हिरणों को पानी में जहर देकर मारा गया है। 6 हिरणों का शव शनिवार को नीमसराय गाँव से करीब आधा किलोमीटर दूर गिट्टी खदान के पास मिला हैं। हिरणों के शव का रविवार को पोस्टमार्टम किया जाएगा। जिस जगह पर हिरणों का शव मिला है वहां पर एक छोटा सा तालाब है। अधिकारियों को आशंका है कि मछली पकड़ने के लिए पानी में जहर मिलाया गया होगा। वही पानी पीने से हिरणों की मौत हुई है। 

हालाँकि अधिकारियों के मुताबिक़ पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद ही हिरणों की मौत का सही कारण पता चल पाएगा। इस बीच घटना की जाँच के लिए वन विभाग  डॉग स्कवॉड की मदद से शिकारियों की खोजबीन में लग गया है। हरदा जिले के खिरकिया ब्लॉक के गाँव नीमसराय के किसान ओमप्रकाश बिश्नोई के खेत में एक काले हिरण का शव पड़ा हुआ था। उन्होंने ही सबसे पहले घटना की सूचना वन विभाग को दी। बिश्नोई ने बताया कि 4 हिरणों की मौत उनके सामने ही हुई, जबकि दो हिरण पहले ही मर चुके थे। 
घटना के बाद मौके पर पहुंचे डीएफओ अंकित पांडेय ने बताया कि कुल 6 हिरणों के शव मिले हैं। प्रथम दृष्टिया लगता है कि इनमे से दो हिरणों का शिकार किया गया है जबकि  4 अन्य को जहर देकर मारा गया है। ऐसा प्रतीत होता है कि शिकार से ध्यान हटाने के लिए ही अन्य को जहर दिया गया। उन्होंने बताया कि कुछ ग्रामीणों को पूछताछ  के लिए रोका गया है। तालाब के पानी में जहर मिलाया गया या नहीं , जाँच के बाद ही ये स्पष्ट हो पाएगा। 
बिश्नोई समाज ने इस घटना के जाँच के साथ ही दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। दरअसल वन कानूनों के अनुसार काले हिरण के शिकार पर प्रतिबंध है  और ऐसा करने पर कड़ी सजा का प्रावधान है।