दिग्विजय सिंह के विरुद्ध BJP लामबंद, CM बोले- उन्होंने गेट तोड़ने की कोशिश की, फोटो लेकर पीसी करने बैठे शर्मा

जिला पंचायत चुनाव के दौरान दिग्विजय सिंह के साथ पुलिस ने की धक्का मुक्की, एक तस्वीर जारी कर बीजेपी ने लगाया सिंह पर पुलिसकर्मी का कॉलर पकड़ने का आरोप, सिंह का पलटवार- सत्ता की सीनाजोरी नहीं दिख रही है

Updated: Jul 29, 2022, 07:16 PM IST

दिग्विजय सिंह के विरुद्ध BJP लामबंद, CM बोले- उन्होंने गेट तोड़ने की कोशिश की, फोटो लेकर पीसी करने बैठे शर्मा

भोपाल। मध्य प्रदेश के भोपाल में जिला पंचायत चुनाव के दौरान हाई लेवल पॉलिटिकल ड्रामा देखने को मिला। यहां कांग्रेस को हराने के लिए पूरी सरकार और मशीनरी मैदान में उतर गई। चुनाव के दौरान पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के साथ धक्का मुक्की भी हुई। हालांकि, उल्टा बीजेपी ने दावा किया है कि दिग्विजय सिंह ने पुलिस का कॉलर पकड़ा, गुंडागर्दी की और कलेक्ट्रेट के गेट को तोड़ने की कोशिश की।

दरअसल, बीजेपी नेता रामेश्वर शर्मा कांग्रेस के सदस्यों को मंत्री भूपेंद्र सिंह की गाड़ी में लेकर निर्वाचन स्थल पहुंचे थे। इस दौरान दिग्विजय सिंह गाड़ी के आगे आ गए और उन्होंने अंदर तक गाड़ी ले जाने का विरोध किया। इस दौरान बीजेपी विधायक रामेश्वर शर्मा गाड़ी से उतरकर अंदर जाने लगे। सिंह ने जब शर्मा को अंदर घुसने से रोकना चाहा तो पुलिसकर्मियों ने उनके साथ धक्का मुक्की भी की।

पुलिस जब दिग्विजय सिंह को आगे बढ़ने से रोक रही थी तब वे डिफेंस की स्थिति में थे और उनका हाथ पुलिस अधिकारी उमेश तिवारी के कॉलर पर था। इस दौरान पुलिस ने वरिष्ठ नेता को धक्का देते हुए पीछे कर दिया। अब बीजेपी इस घटना की एक तस्वीर के जरिए कांग्रेस नेता पर गुंडागर्दी की आरोप लगा रही है।

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने तस्वीर के साथ प्रेस कांफ्रेंस किया। उन्होंने कहा कि, 'सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल खड़ा करने वाले दिग्विजय सिंह सरकारी अधिकारी के साथ गुंडागर्दी कर रहे हैं। गुंडागर्दी से वोट नहीं मिलता है। कांग्रेस का मूल चरित्र सामने आ गया है। ये साफ गुंडगर्दी है। कमलनाथ धमकी देते हैं कि हम देख लेंगे। मैं इसकी कड़ी आलोचना करता हूं।'

दिग्विजय सिंह पर निशाना साधते हुए सीएम शिवराज तो वीडी शर्मा से भी एक कदम आगे निकल गए। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह कलेक्ट्रेट का गेट तोड़ने की कोशिश कर रहे थे। सीएम चौहान ने वीडियो जारी कर कहा कि, 'ऐसा अशोभनीय व्यवहार किसी पूर्व मुख्यमंत्री को शोभा नहीं देता है। पुलिस अफसर का कॉलर पकड़ रहे हैं, कलेक्ट्रेट के गेट को धक्का देकर तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। लोकतंत्र में जय और पराजय चलती रहती है, लेकिन ऐसी बौखलाहट कि आप पुलिस अफसर का कॉलर पकड़ें, यह अधिकार आपको किसने दिया?'

सीएम चौहान ने आगे कहा कि, 'मुझे आश्चर्य है कि कोई व्यक्ति दस साल तक मुख्यमंत्री रहकर ऐसी प्रतिक्रिया दे! यह तो कांग्रेस की बौखलाहट का प्रतीक है। जमीन खिसक गई, तो गालियां दो, कॉलर पकड़ो, मैं इसकी घोर निंदा करता हूं।'

दिग्विजय सिंह ने भी बीजेपी नेताओं पर पलटवार किया है। उन्होंने चार तस्वीरें साझा करते हुए बताया है कि किस तरह उन्हें रोकने के बाद वही पुलिसकर्मी हंस रहे थे। सिंह ने लिखा कि, 'हे ज्ञान के देवताओं पुलिस प्रशासन की ज़बरदस्ती और सत्ता की सीनाज़ोरी आपको नहीं दिख रही है ? ये कैसे विधायक को अंदर (prohibited area) ले जाने के लिए हमें रोकने का प्रयास करते हुए धक्का मुक्की कर रहे हैं! फिर अंदर खड़े होकर हंस रहे हैं! तस्वीर को पूरी देखिए।'

बता दें कि भोपाल जिला पंचायत चुनाव के खिलाफ दिग्विजय सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल निर्वाचन आयोग पहुंचा। कांग्रेस नेताओं ने राज्य चुनाव आयुक्त को ज्ञापन सौंपकर चुनाव निरस्त करने की मांग की है।