दिग्विजय सिंह के प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने चलाया वॉटर कैनन, कांग्रेस बोली- ब्रिटिश राज की याद दिला दी

पुलिस छावनी में तब्दील हुआ गोविंदपुरा इंडस्ट्रियल एरिया, सड़कों पर उतरे दिग्विजय सिंह, पुलिस ने चलाया वॉटर कैनन, पार्क की जमीन RSS से जुड़ी संस्था को देने का विरोध

Updated: Jul 11, 2021, 07:03 PM IST

दिग्विजय सिंह के प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने चलाया वॉटर कैनन, कांग्रेस बोली- ब्रिटिश राज की याद दिला दी

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के इंडस्ट्रियल एरिया बीएचईएल में पार्क की जमीन RSS से जुड़ी संस्था को देने के विरोध में राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस के स्थानीय नेताओं और व्यापारियों के समूह के साथ दिग्विजय सिंह ने सरकार के इस फैसले के खिलाफ आज प्रदर्शन किया। सिंह के साथ बड़ी संख्या में समर्थकों पर भोपाल पुलिस की बर्बरता भी देखने को मिली। पुलिस द्वारा प्रदर्शनकारियों पर वॉटर कैनन का इस्तेमाल किया गया। प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि एमपी सरकार ने इंडस्ट्रियल एसोसिएशन की जमीन जबरन आरएसएस से जुड़ी संस्था को दे दी, जिसपर आनन-फानन में आज शिलान्यास भी कर दिया गया। जबकि पार्क की इस जमीन का रखरखाव स्थानीय व्यापारियों के निजी पैसे से चल रहा था।

प्रदर्शनकारियों के खिलाफ पुलिस के आक्रामक रवैय्ये की तुलना कांग्रेस ने ब्रिटिश राज से की है। मध्यप्रदेश कांग्रेस ने ट्वीट किया, 'शिवराज का दमन-पार्क की ज़मीन आरएसएस को देने का विरोध करने पहुँचे पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह जी एवं अन्य वरिष्ठ नेताओं पर शिवराज ने वॉटर कैनन का उपयोग कर ब्रिटिश राज की याद दिला दी। शिवराज जी, प्रदर्शन लोकतंत्र में प्रदत्त अधिकार है, आपके दमन से कांग्रेसी डरने वाले नहीं।' 

सोशल मीडिया पर इस घटना के कई वीडियो वायरल हो रहे हैं, जिसमें देखा जा सकता है कि पुलिस प्रदर्शनकारियों पर वॉटर कैनन चला रही है। वॉटर कैनन चलाए जाने के बाद पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह भी समर्थकों के साथ भीगे नजर आएं। उन्होंने इस घटना के प्रतिकार स्वरूप 'रघुपति राघव राजा राम' का गायन किया। इतना ही नहीं इस मामले में भोपाल कलेक्टर व गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा के दामाद अविनाश लवानिया ने कहा है कि कांग्रेसियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाएगी। 

इसके अलावा एक और वीडियो सामने आया है जिसमें दिग्विजय सिंह भोपाल डीआईजी इरशाद वाली को सख्त लहजे में चेतावनी दे रहे हैं। अमूमन दिग्विजय सिंह का ऐसा तेवर कम ही देखने को मिलता है। वीडियो में देखा जा सकता है कि वे इरशाद वाली को चेतावनी देते हुए कहते हैं कि यदि संबंधित जमीन पर आरएसएस से जुड़ी संस्था द्वारा कोई भी निर्माण कार्य किया जाएगा तो उसे हम तोड़ देंगे। इसपर डीआईजी को कहते हुए सुना जा सकता है कि हम आप पर नजर रखेंगे। इस घटनाक्रम के दौरान सिंह के साथ कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा भी मौजूद थे।

वॉटर कैनन चलाने से खत्म नहीं होगी हमारी लड़ाई- दिग्विजय सिंह

इस पूरे घटनाक्रम के बाद मीडिया से बात करते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि, 'हम सरकार की दादागिरी का विरोध कर रहे हैं। सीएम शिवराज से मुलाकात का मैने समय मांगा, लेकिन उन्होंने समय नहीं दिया। उनके पास सिर्फ दलालों और चंदाखोरों से मिलने का समय है। RSS से जुड़ी संस्था को किस आधार पर जमीन अलॉट किया जा सकता है। हम मज़दूरों की लड़ाई कोर्ट से लेकर विधानसभा तक में लड़ेंगे। वाटर कैनन चला देने से हमारी लड़ाई खत्म नहीं होगी। इंडस्ट्रियल एसोसिएशन हमारे साथ है। शिलान्यास सरकार ने ज़रूर कर दिया लेकिन हम इसे तोड़ देंगे।' 

क्या है पूरा मामला

दरअसल, मध्यप्रदेश सरकार ने इंडस्ट्रियल एरिया गोविंदपुरा की दस हजार स्क्वेयर फुट जमीन आरएसएस से जुड़ी एक NGO को कार्यालय बनाने के लिए अलॉट कर दिया है। यह जमीन पार्क की जमीन है और यहां पूर्व सीएम बाबूलाल गौर पौधरोपण तक कर चुके हैं। इस बंदर-बांट के खिलाफ इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के लोग एकजुट होकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। दिग्विजय सिंह कल इस पार्क में गए थे और उन्होंने संकल्प लिया था कि पार्क के वजूद को बनाए रखा जाएगा।