डॉ भीमराव आंबेडकर ने संविधान की एक लाइन भी नहीं लिखी, नवोदय स्कूल के प्रिंसिपल के पाठ पर बवाल

रायसेन के बाड़ी स्थित जवाहर नवोदय विद्यालय के प्रिंसिपल जितेंद्र मिश्रा का वीडियो वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में वह कह रहे हैं कि बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर ने संविधान की एक लाइन नहीं लिखी है।

Updated: Dec 05, 2022, 10:20 AM IST

डॉ भीमराव आंबेडकर ने संविधान की एक लाइन भी नहीं लिखी, नवोदय स्कूल के प्रिंसिपल के पाठ पर बवाल

रायसेन। मध्य प्रदेश में एक प्रिसिंपल के बाबा साहब डॉ आंबेडकर पर विवादित टिप्प्णी से बवाल मच गया है। प्रिंसिपल का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें वह कह रहे हैं कि डॉ भीमराव आंबेडकर ने संविधान की एक लाइन भी नहीं लिखी। कई संगठनों ने उक्त प्रिंसिपल के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

मामला रायसेन जिले में संचालित जवाहर नवोदय विद्यालय का है। प्रिंसिपल जितेन्द्र मिश्रा ने स्कूल परिसर में 26 नवंबर को संविधान दिवस के मौके पर बच्चों को अनोखा ज्ञान दे डाला। उन्होंने कहा कि बाबा साहब भीमराव आंबेडकर ने संविधान की एक लाइन भी नहीं लिखी। संविधान लिखने में बाबासाहब का कोई योगदान नहीं है।

मिश्रा बच्चों से बोल रहे हैं कि संविधान बिहार के किसी प्रेम नारायण रायजादा ने लिखी है। प्रेम नारायण की काफी सुंदर राइटिंग थी और उन्होंने अपने हाथ से संविधान लिखा। वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद जगह-जगह विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है। बाबा साहब आंबेडकर के अनुयायियों में काफी गुस्सा फैल गया है। उन्होंने प्रिसिंपल के बयान की कड़ी आलोचना की है।

यह भी पढ़ें: MP में भारत जोड़ो यात्रा का आखिरी दिन, शाम को राजस्थान में प्रवेश करेगी यात्रा

इसी कड़ी में अहिरवार संघ ने भी मोर्चा खोल दिया है। कार्यकर्ताओं ने रायसेन कलेक्टर और देश के शिक्षा मंत्री को तहसीलदार के माध्यम से ज्ञापन सौंपा और आरोपी प्रिंसिपल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। बाबा साहब से जुड़े संगठनों ने भी प्रिंसिपल के खिलाफ जमकर नारेबाजी और हंगामा किया। उन्होंने आक्रोश जताते हुए बाबा साहेब पर की गई विवादित टिप्पणी के खिलाफ आंदोलन करने की चेतावनी दी।

विवाद बढ़ने के बाद स्कूल के प्रिंसिपल ने एक वीडियो जारी कर माफी मांगी है। उन्होंने कहा कि 26 नवंबर को संविधान दिवस के अवसर पर मैंने बच्चों को जो भाषण दिया है, उसमें संविधान के निर्माता डॉ भीमराव आंबेडकर ही बताया है। बाबा साहेब ने ही संविधान को बनाया था। मेरे कहने का तात्पर्य यह था कि उसकी प्रतिलिपी प्रेम बिहारी नारायण रायजादा ने की थी। इस बात से सभी को ठेस पहुंची है। इसके लिए मैं माफी मांगता हूं। बाबा साहेब हमारे देश के अनमोल रत्न हैं। मैं उनका दिल से समान करता हूं। उसे गलत तरीके से नहीं लिया जाना चाहिए।