Guna: सिंधिया के चहेते कलेक्टर ने ढंकवाए सीएम शिवराज चौहान के पोस्टर, सीएम के आने के पहले खुद कर डाला लोकार्पण

MP ByPoll 2020: शुक्रवार को सीएम का गुना जिले की बमोरी में था दौरा, सीएम के आने से पहले सिंधिया के चहेते ने खुद ही कर दिया लोकार्पण और भूमिपूजन

Updated: Sep-25, 2020, 09:23 PM IST

Guna: सिंधिया के चहेते कलेक्टर ने ढंकवाए सीएम शिवराज चौहान के पोस्टर, सीएम के आने के पहले खुद कर डाला लोकार्पण

गुना। मध्यप्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर तमाम नेता जहां लगातार रैलियां कर रहे हैं वहीं दूसरी ओर प्रदेश से लगातार अजीबोगरीब खबरें आ रही है। हालिया मामला गुना जिले के बमोरी का है जहां शुक्रवार को सीएम शिवराज का दौरा था। लेकिन दौरे से पहले ही ज्योतिरादित्य सिंधिया के चहेते माने जाने वाले कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने सरेआम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंच पर लगी तस्वीरों को ढंकवा दिया।

इतना ही नहीं तय कार्यक्रम के अनुसार क्षेत्र में जो भी भूमिपूजन और लोकार्पण के कार्य सीएम द्वारा होने थे उन्हें सीएम के आने से पहले खुद ही कर डाला। दरअसल, सीएम का यह दौरा पूर्व से ही प्रस्तावित था और इस बाबत बमोरी में एक बड़ा सा मंच लगवाया गया था। मंच पर सीएम और पीएम के बड़े-बड़े फ़ोटो लगे थे और बेहद सुंदर तरीके से मंच की फूलों से साजो-सज्जा की गई थी।

सीएम के बमोरी पहुंचने से पहले बीजेपो नेता और कार्यकर्ताओं की भीड़ लगी थी और मंच से स्थानीय नेता अपना भाषण दे रहे थे। इसी बीच अचानक जिला कलेक्टर ने लोगों को तब चौंका दिया जब वह नाटकीय रूप से मंच के पीछे लगे पोस्टर को उजले कपड़े से ढंकवा दिया। इसके बाद उन्होंने सीएम के प्रस्तावित भूमिपूजन और लोकार्पण के कार्यस्थलों से सभी प्रशासनिक अधिकारियों को जाने का आदेश देकर खुद ही उन सब का लोकार्पण भी कर डाला। 

और पढ़ें: MP By Poll 2020 सिंधिया और शिवराज चौहान के कार्यक्रम में खाली रह गई कुर्सियां

दरअसल, उसी दौरान चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग की पत्रकार वार्ता शुरू होने वाली थी और मीडिया रिपोर्ट्स में इस बात की चर्चाएं थी कि आज ही मध्यप्रदेश चुनाव की तारीखों का ऐलान के साथ प्रदेश में आचारसंहिता लागू हो जाएंगे। बता दें कि चुनाव आचार संहिता के दौरान किसी भी प्रकार के सरकारी कार्यक्रम में राजनीतिक पोस्टर, बैनर्स और लोकार्पण कार्यों पर पूर्ण पाबंदी होती है। गुना कलेक्टर ने आचार संहिता लगने के भय से  प्रेस कांफ्रेंस सुने बिना नाटकीय रूप से सारे काम कर डाले।