मध्य प्रदेश के कई जिलों में ओलावृष्टि से फसल बर्बाद, सर्वे शुरू नहीं होने से किसानों में नाराजगी

सागर, गुना, राजगढ़, अशोकनगर, नरसिंहपुर में फिर गिरे ओले, 50 फीसदी फसल चौपट होने का अनुमान, किसानों ने मुख्यमंत्री को याद दिलाया पुराना बयान, वीडियो शेयर कर बोले- आप खेतों में कब आएंगे

Updated: Jan 09, 2022, 02:06 PM IST

मध्य प्रदेश के कई जिलों में ओलावृष्टि से फसल बर्बाद, सर्वे शुरू नहीं होने से किसानों में नाराजगी

भोपाल। मध्य प्रदेश के कई जिलों में बारिश का दौर निरंतर जारी है। वहीं बारिश के साथ ओलावृष्टि किसानों के लिए बड़ी तबाही लेकर आई है। शनिवार शाम एक बार फिर कई जिलों में ओला वृष्टि हुई है। रिपोर्ट्स के मुताबिक शनिवार को गुना, राजगढ़ और नरसिंहपुर में करीब एक घंटे तक ओले बरसते रहे।

बताया जा रहा है कि शनिवार सुबह धूप निकली हुई थी, लेकिन दोपहर होते-होते बादल छाने लगे। शाम 5 बजे से बारिश का दौर शुरू हुआ और फिर ताबड़तोड़ ओले गिरने लगे। स्थानीय लोगों के मुताबिक आंवले के आकार के ओले गिरे हैं। ओलावृष्टि से गुना, राजगढ़, नरसिंहपुर और अशोकनगर के में भारी बर्बादी हुई है। किसान बता रहे हैं कि 50 फीसदी फसल चौपट हुई है। 

यह भी पढ़ें: गुना में ओलावृष्टि से सैकड़ों गांवों की फसल चौपट, जयवर्धन सिंह ने सरकार से की जल्द राहत की मांग

ओला से हुए नुकसान का सर्वे नहीं होने से किसानों में रोष व्याप्त है। बता दें कि इसके पहले गुरुवार को भी कई जगहों पर ओलावृष्टि हुई थी। तब कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि किसानों का संकट, हमारा संकट है। किसान भाई परेशान न हों, नुकसान की भरपाई होगी। इसके बाद खानापूर्ति के लिए कुछ जगहों पर ही सर्वे हुआ। मंदसौर में किसानों ने सर्वे न होने के कारण शनिवार को चक्का जाम भी किया। 

इसी बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इसमें वह कह रहे हैं कि, 'सिर्फ फसल खराब नहीं हुई, किसानों का भविष्य खराब हो गया। बच्चों की जिंदगी खराब हो गई। किसान बर्बाद हो गए। मंत्री खेतों में घुसें, जबतक नहीं जाएंगे महल में बैठकर ये अंदाजा नहीं लग सकता कि नुकसान कितना हुआ है।' हालांकि, यह वीडियो तब की है जब कमलनाथ सीएम थे। किसान अब इसे साझा कर सीएम चौहान को खेतों में नुकसान का आंकलन करने के लिए बुला रहे हैं। 

कृषि विशेषज्ञ व किसान नेता केदार शंकर सिरोही ने बताया कि यदि प्रदेश को चार-पांच हिस्सों में बांटकर देखा जाए तो सभी हिस्सों में ओलावृष्टि हुई है। सिरोही के मुताबिक इससे चना, मूंग, कपास, प्याज, लहसुन, सब्जियां व अन्य फसलों को काफी नुकसान हुआ है। कुछ हिस्सों में तो 80 प्रतिशत तक फसल बर्बाद हुए है। औसत भी देखा जाए तो 50 फीसदी फसल चौपट हुए हैं। सिरोही ने राज्य सरकार से तत्काल किसानों को उचित मुआवजा देने की मांग की है।