MP: दलित व्यक्ति ने मांगी मजदूरी तो काट डाले हाथ, रीवा में उच्च जाति के दबंगों की हैवानियत

मध्य प्रदेश के रीवा में दिल दहलाने वाली घटना, मजदूरी मांगने पर उच्च जाति के दबंगों ने काट डाले हाथ, भीम आर्मी ने BJP सरकार पर मनुवादी व्यवस्था को बढ़ावा देने का लगाया आरोप

Updated: Nov 21, 2021, 06:24 PM IST

MP: दलित व्यक्ति ने मांगी मजदूरी तो काट डाले हाथ, रीवा में उच्च जाति के दबंगों की हैवानियत

रीवा। मध्य प्रदेश के रीवा जिले से क्रूरता की एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। यहां उच्च जाती के दबंगों ने एक दलित व्यक्ति का हाथ काटकर शरीर से अलग कर दिया। पीड़ित की गलती बस इतनी थी कि वह मजदूरी के पैसे मांग रहा था। इस अमानवीय घटना को लेकर गुस्सा जाहिर करते हुए भीम आर्मी ने आरोप लगाया है कि बीजेपी सरकार मनुवादी व्यवस्था को बढ़ावा दे रही है।

मामला रीवा जिले के सिरमौर थाना अंतर्गत पडरी गांव का है। बताया जा रहा है कि दलित समुदाय के 45 वर्षीय अशोक साकेत राजमिस्त्री का काम करते हैं। अशोक ने गांव के ही गणेश मिश्रा के यहां काम किया था। शनिवार शाम अशोक आरोपी के घर अपनी मजदूरी का पैसा मांगने गए थे। इसी बात पर गणेश मिश्रा भड़क गया। इसके बाद वह घर के भीतर गया और पैसों के बदले धारदार तलवार लेकर लौटा और अशोक का हाथ काटकर फेंक दिया।

यह भी पढ़ें: भाजपा MLA की बेलगाम जुबान, बोले- कांग्रेसियों के गुर्दे खराब कर दूंगा, चुनाव लड़ोगे तो जमीन में गाड़ दूंगा

सिरमौर थाना प्रभारी उपनिरीक्षक आरपी पांडेय के मुताबिक पुलिस को इस घटना की सूचना शनिवार की दोपहर 2 बजे मिली थी। जिसके बाद पुलिस की एक टीम पीड़ित को लेकर एसजीएमएच रीवा गई। वहीं दूसरी टीम को पडरी गांव भेजा गया था। घटनास्थल पर पुलिस को काफी खोजबीन के बाद सामने अरहर के खेत में पीड़ित का कटा हुआ हाथ मिला, जिसे लेकर पुलिस अस्पताल पहुंची। डॉक्टरों की टीम पीड़ित का हाथ जोड़ने का प्रयास कर रही है। रीवा एसपी नवनीत भसीन ने बताया​ कि आरोपी गणेश मिश्रा को गिरफ्तार कर लिया गया है।

मामले पर भीम आर्मी ने मध्य प्रदेश सरकार को मनुवादी करार दिया है। एमपी भीम आर्मी कोमल अहिरवार ने कहा कि, 'प्रदेश में दलितों के खिलाफ अत्याचार की घटनाएं बढ़ गईं हैं। क्योंकि अपराधियों को इस मनुवादी भाजपा सरकार का संरक्षण प्राप्त होता है। शिवराज सरकार और बीजेपी के सभी नेता मनुवादी व्यवस्था को बढ़ावा दे रहे हैं। अपराधियों के खिलाफ यदि सख्त कार्रवाई नहीं होती है तो भीम आर्मी उग्र आंदोलन करने के लिए मजबूर हो जाएगी।'