MP में कोरोना की रफ्तार हुई दोगुनी, दिसंबर के पहले दस दिन 152 लोग मिले संक्रमित

राजधानी भोपाल में बीते 40 दिनों में रोजाना कोरोना के मामले दर्ज किए गए हैं, इंदौर में भी सिर्फ आठ नवंबर को कोरोना से संक्रमित कोई मरीज नहीं मिला था

Publish: Dec 12, 2021, 10:11 AM IST

MP में कोरोना की रफ्तार हुई दोगुनी, दिसंबर के पहले दस दिन 152 लोग मिले संक्रमित

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना लगातार अपनी रफ्तार पकड़ रहा है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले सामने आने की रफ्तार अब दोगुनी हो गई है। जिस वजह से प्रदेश में कोरोना संक्रमण के एक्टिव मामलों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक दिसंबर के पहले दस दिनों में प्रदेश भर में कोरोना के 152 मामले सामने आए हैं। नवंबर महीने के पहले दस दिनों के मुकाबले संक्रमण की यह संख्या दोगुनी है। नवंबर महीने के पहले दस दिनों में प्रदेश में कोरोना के 70 मामले दर्ज किए गए थे। 

बीते चालीस दिनों से राजधानी भोपाल में रोजाना कोरोना के मामले दर्ज किए गए हैं। इंदौर में भी सिर्फ आठ नवंबर को ही कोरोना का एक भी मामला सामने नहीं आया था। लेकिन बाकी सभी दिनों में इंदौर में कोरोना का एक न एक मामला दर्ज ज़रूर किया गया। राजधानी भोपाल और इंदौर में लगातार मामले सामने आने के साथ साथ इस अवधि में प्रदेश के 24 जिलों में कोरोना का मामला पहुंच गया। 

यह भी पढ़ें : हरभजन और युवराज के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें, हरभजन ने किया इनकार

लगातार बढ़ रहे संक्रमण के चलते प्रदेश में एक्टिव मामलों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। तीन दिसंबर को प्रदेश में कोरोना के 142 एक्टिव मामले थे। लेकिन 10 दिसंबर आते आते प्रदेश में एक्टिव मामलों की संख्या 156 पहुंच गई। 

दूसरी तरफ प्रदेश में Omicron वेरिएंट को लेकर भी खतरा बढ़ता दिखाई दे रहा है। इंदौर में पिछले दस दिनों में नौ बच्चे कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। इनमें कोरोना के लक्षण नहीं थे। संक्रमित पाए गए बच्चों में दो भाई बहन हैं जो कि हाल ही में नाइजीरिया से लौटे हैं। राजधानी भोपाल में भी दो बच्चे कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। 

यह भी पढ़ें : आखिर कांग्रेस एमएलए क्यों जुटा रहे राम मंदिर के लिए चंदा

वहीं विदेशों से आने वाले यात्रियों की ट्रेसिंग भी मध्य प्रदेश सरकार के लिए चुनौती का सबब बनी हुई है। रिपोर्ट्स के मुताबिक 24 नवम्बर से 6 दिसंबर के बीच कुल 1688 लोग विदेशों से मध्य प्रदेश आए थे। जिसमें हाई रिस्क देशों के 697 यात्री शामिल थे। लेकिन अब तक महज 785 यात्रियों को ही ट्रेस कर पाने में सफलता प्राप्त हुई है। जबकि 883 यात्री अब भी लापता हैं।