हरभजन और युवराज के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें, हरभजन ने किया इनकार

पूर्व भारतीय क्रिकेटर हरभजन सिंह और युवराज सिंह के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें तेज़ हैं, हालांकि हरभजन सिंह ने खुद के बीजेपी में शामिल होने को लेकर लगाई जा रही अटकलों को अफवाह करार दिया है

Updated: Dec 12, 2021, 01:16 PM IST

हरभजन और युवराज के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें, हरभजन ने किया इनकार
Photo Courtesy: Crictracker.com

नई दिल्ली/चंडीगढ़। पंजाब चुनाव से पहले पूर्व भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह और हरभजन सिंह के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें तेज हैं। मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से दावा किया जा रहा है कि जल्द ही हरभजन और युवराज बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। हालांकि खुद हरभजन सिंह ने खुद के बीजेपी में शामिल होने की अटकलों पर विराम लगा दिया है। 

दाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज ने बीजेपी की ओर से गेंदबाजी करने से इनकार कर दिया है। हरभजन सिंह ने बीजेपी में शामिल होने की खबरों को फेक न्यूज़ करार देते हुए कहा है कि वे बीजेपी में शामिल होने नहीं जा रहे हैं। हालांकि इन अटकलों को लेकर अब तक युवराज सिंह की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। 

अंग्रेजी के एक प्रमुख अखबार ने यह दावा किया कि खुद बीजेपी के सीनियर नेता ने इस बात की पुष्टि की कि उनकी पार्टी दोनों पूर्व क्रिकेटरों को पार्टी में शामिल करने का मन बना रही है। वहीं एक अन्य मीडिया रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख किया गया कि पंजाब विधानसभा चुनावों में बीजेपी नामचीन हस्तियों को अपने साथ जोड़ने की कवायद में जुटी हुई है। जिसमें हरभजन सिंह और युवराज सिंह के नाम प्रमुख तौर पर सामने आ रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: आखिर कांग्रेस एमएलए क्यों जुटा रहे राम मंदिर के लिए चंदा

रिपोर्ट में कहा गया बीजेपी इन दोनों क्रिकेटरों को आगामी विधानसभा चुनाव में टिकट देना चाहती है। अगर दोनों ही क्रिकेटर चुनाव लड़ने पर राज़ी नहीं होते हैं तो बीजेपी इन दोनों क्रिकेटरों से अपने लिए प्रचार करने की अपील भी कर सकती है। 

यह भी पढ़ें : प्रधानमंत्री मोदी का ट्विटर अकाउंट हैक, हैकर ने की बिटकॉइन को भारत में मंजूरी देने की घोषणा

पंजाब में अगले साल फरवरी मार्च के महीने में विधानसभा चुनाव होने हैं। पिछले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने 117 में से 77 सीटों पर जीत दर्ज कर सरकार बनाई थी। वहीं आम आदमी पार्टी ने 20 सीटों पर जीत दर्ज की थी। जबकि अकाली दल को पंद्रह और बीजेपी को तीन सीटों से संतोष करना पड़ा था।