मिड डे मील खाकर बीमार पड़े दो दर्जन बच्चे, भोपाल के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती

मिड डे मील खाने वाले बच्चों को पेट में दर्द और उल्टी की शिकायत, बैरसिया के सरकारी स्कूल का मामला।

Updated: Dec 03, 2022, 07:59 PM IST

मिड डे मील खाकर बीमार पड़े दो दर्जन बच्चे, भोपाल के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में जहरीला मिड डे मील खाने से करीब दो दर्जन स्कूली बच्चे बीमार पड़ गए। बच्चों को भोपाल के विभिन्न शासकीय और निजी अस्पतालों भर्ती कराया गया है। उन्हें उल्टी, दस्त और पेट दर्द की शिकायत है। मामला सामने आने के बाद आनन फानन में खाना बनाने वाले समूह को सस्पेंड कर दिया गया है।

मामला बैरसिया के शासकीय प्राथमिक स्कूल भैंसोदा का है। बताया जा रहा है कि गुरुवार दोपहर बच्चों ने मिड-डे मील खाया था। उसके बाद एक के बाद एक करीब दो दर्जन बच्चों की तबीयत बिगड़ गई। बच्चों को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। चौथी में पढ़ने वाली छात्रा रागिनी ठाकुर समेत कई बच्चे अस्पताल में भर्ती हैं। शनिवार को मामला मीडिया से सामने आया है।

इसी बीच स्कूल की टीचर ने कहा है कि बच्चों अक्सर खराब खाना दिया जाता है। शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं की जाती है। शनिवार को जिला पंचायत की टीम ने अस्पताल और स्कूल का निरीक्षण किया। बच्चों को बासी गढ़ी और पूड़ी परोसने का खुलासा हुआ है। जहां बच्चे खाना खाते हैं वहां अफसरों को कुत्ता घूमते हुए भी मिला। बताया गया कि यहां अकसर यही हाल रहता है। 

यह भी पढ़ें: भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने की सजा, बड़वानी में आदिवासी शिक्षक निलंबित, कांग्रेस बोली- ये सरकार की बौखलाहट

एक टीचर के अनुसार कई बार बैरसिया के मिड डे मील प्रभारी योगेश सक्सेना से इसकी शिकायत की जा चुकी है, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। मामला मीडिया में आने के बाद अधिकारी हरकत में आ गए हैं। एसडीएम आदित्य जैन ने कहा कि दो दिन पहले मिड डे मील खाने के बाद कुछ बच्चों के बीमार होने की शिकायत सामने आई थी। एक बच्ची बैरसिया, तो दूसरी बच्ची केा प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। 

एसडीएम ने बताया कि स्कूल का निरीक्षण किया गया है। खाना बनाने वालेसमूह की गतिविधियां सही नहीं पाए जाने के बाद समूह को सस्पेंड कर दिया है। नए समूह को खाना देने के लिए बोला है। थाना प्रभारी को निर्देशित किया है कि जो भी इस मामले में दोषी पाए जाते हैं, उनके विरुद्ध केस दर्ज किया जाए।