आर्यन खान के साथ सेल्फी लेना पड़ा भारी, जल्द गिरफ्तार हो सकता है किरण गोसावी

किरण गोसावी पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज है, वह तीन साल से फरार चल रहा है, आर्यन खान गिरफ्तारी मामले में उसकी भूमिका भी संदेह के घेरे में है

Updated: Oct 08, 2021, 02:58 PM IST

आर्यन खान के साथ सेल्फी लेना पड़ा भारी, जल्द गिरफ्तार हो सकता है किरण गोसावी
Photo Courtesy: Hindustan times

मुंबई। बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन को गिरफ्तार करने में शामिल किरण गोसावी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मंत्री के खुलासे के बाद प्राइवेट जासूस किरण गोसावी को गिरफ्तार किया जा सकता है। किरण गोस्वामी पिछले तीन सालों से पुलिस की नजरों से बचते हुए फरारी काट रहा है। 

पुणे में किरण गोसावी पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज है। किरण गोसावी के ऊपर एक व्यक्ति को नौकरी का झांसा देकर तीन लाख रुपए ठगने और जान से मारने की धमकी देने के आरोप हैं। किरण गोसावी के ऊपर पीड़ित व्यक्ति ने तीन साल पहले ही धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया था।

पीड़ित चिन्मय देशमुख को गोसावी ने मलेशिया में नौकरी दिलाने का वादा किया था। और इसके एवज में उसने चिन्मय से तीन लाख रुपए की उगाही की थी। लेकिन मलेशिया पहुंचने पर चिन्मय देशमुख को धोखाधड़ी का सारा खेल समझ में आया। मलेशिया से वापस पुणे लौटकर जब चिन्मय ने गोसावी से पैसे वापस मांगे तब गोसावी ने पैसे वापस लौटने से साफ इनकार तो किया ही, साथ ही साथ उसे जान से मारने की धमकी भी दे डाली। जिसके बाद पीड़ित ने पुलिस का रुख किया। 

किरण गोसावी का चेहरा सबसे पहले मीडिया में उस दौरान आया था जब आर्यन खान के साथ उसकी तस्वीर वायरल हुई थी। इसके बाद महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक के खुलासे के बाद सारी पोल खुल गई। किरण गोसावी के तार बीजेपी से जुड़े मिले। 

यह भी पढ़ें : NCP नेता ने आर्यन खान की गिरफ्तारी को बताया फर्जी, बीजेपी और एनसीबी पर लगाया मिलीभगत का आरोप

नवाब मलिक ने यह आरोप लगाया कि किरण गोसावी के बीजेपी के कार्यकर्ता मनीष भानुशाली से संबंध थे। इन दोनों ने एनसीबी के साथ मिलीभगत कर आर्यन खान को अपना शिकार बनाया। क्योंकि शाहरुख खान लम्बे समय से बीजेपी के निशाने पर थे। नवाब मलिक ने किरण गोसावी का वीडियो भी साझा किया था जिसमें किरण गोसावी आर्यन खान को पकड़ कर एनसीबी के दफ्तर में ले जाता हुआ दिख रहा है। इस खुलासे के बाद सवाल उठ रहे हैं कि अगर एनसीबी ने गवाह के तौर पर किरण गोसावी और मनीष भानुशाली की मदद ली थी, तब ऐसी स्थिति में एक इंफॉर्मर को एनसीबी ने आर्यन खान और उसके साथी अरबाज मर्चेंट को हैंडल करने की अनुमति कैसे दे दी। 

यह भी पढ़ें : उगाही के धंधे पर उतारू हो गई है NCB, अभी कई खुलासे होने बाकी: नवाब मलिक

बहरहाल आर्यन खान की गिरफ्तारी के मामले में एनसीबी को आर्यन खान के पास से किसी तरह के ड्रग्स की बरामदगी नहीं हुई। आर्यन खान पर सिर्फ़ ड्रग्स का सेवन का आरोप है। एनसीबी गुरुवार को किला कोर्ट में आर्यन खान की कस्टडी बढ़ाने की मांग को लेकर पहुंची थी। लेकिन कोर्ट ने कस्टडी बढ़ाने से साफ तौर पर इनकार कर दिया। आर्यन खान को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। आज उनकी जमानत याचिका पर सुनाई होनी है।