आसाराम को एक और रेप केस में उम्रकैद की सजा, गांधीनगर कोर्ट का बड़ा फैसला

जोधपुर में रेप केस में उम्र कैद की सजा काट रहे आसाराम बापू को एक बार फिर उम्र कैद की सजा मिली है।

Updated: Jan 31, 2023, 05:48 PM IST

आसाराम को एक और रेप केस में उम्रकैद की सजा, गांधीनगर कोर्ट का बड़ा फैसला

गांधीनगर। शिष्यों से रेप करने वाले फ्रॉड संत आसाराम की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही है। आसाराम को रेप के एक और मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। गांधीनगर कोर्ट ने मंगलवार को आसाराम को उम्र कैद की सजा सुनाई। 81 वर्षीय आसाराम एक दूसरे रेप केस में पहले से उम्र कैद कि सजा काट रहे हैं।

आज जिस रेप मामले में सजा हुई ये केस सूरत की एक महिला ने 2013 आसाराम के खिलाफ दायर किया था। करीब दस साल पहले सूरत की महिला ने आसाराम पर उनके साथ रेप करने के आरोप लगा थे।

आसाराम ने अहमदाबाद में मोटेरा में मौजूद आश्रम में पीड़िता रेप हुआ था। महिला ने अपने बयान में कहा था आश्रम के अंदर बार-बार आसाराम ने उनके साथ दुष्कर्म किया। साल 2001 से 2006 के बीच बाबा महिला के साथ नापाक हरकतें करते रहे और अपने सफेद चोले में अपने काले कारनामों को छुपाते रहे, लेकिन 2013 में जब महिला सामने आई तो बाबा की क्राइम कुंडली सामने आई।

यह भी पढ़ें: दुनिया के टॉप-10 अमीरों की सूची से बाहर हुए अडानी, हिंडनबर्ग की रिपोर्ट से अबतक 36.1 अरब डॉलर का नुकसान

महिला ने बताया था कि उसे आश्रम में कुछ पद देने के नाम पर बुलाया गया था। उसके बाद उसे आसाराम के सामने ले जाया गया उनसे मिलवाने, लेकिन वहां जाकर बाबा ने पहले तो घी से महिला के सिर की मालिश की। उसके बाद उसके साथ गलत हरकतें करनी शुरू कर दी। महिला ने जब विरोध किया तो आसाराम ने उसके साथ जबरदस्ती की और उसका रेप किया।

इस मामले में आसाराम बापू के खिलाफ साल 2014 में चार्जशीट दायर हुई थी। केस की सुनवाई कई सालों तक चली। इस दौरान कई गवाहों पर जानलेवा हमले भी किए गए। आसाराम के अलावा छह अन्य लोगों को भी मामले में आरोपी बनाया गया था, जिनमें आसाराम की पत्नी भी शामिल थीं। हालांकि आसाराम के अलावा बाकी लोगों को सबूत के अभाव में बरी कर दिया गया।

आसाराम को 31 अगस्त 2013 को जोधपुर पुलिस ने रेप के एक दूसरे मामले में गिरफ्तार किया था। तब से वो जेल में बंद है। आसाराम को एक अन्य मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। 2013 में एक शिष्या के साथ रेप के आरोप में जोधपुर की अदालत में उन्हें 2018 में उम्रकैद की सजा सुनाई थी।