बॉडीगार्ड की मौत के मामले में शुभेंदु अधिकारी को सीआईडी ने भेजा समन, सोमवार को लगानी होगी हाजिरी

शुभेंदु अधिकारी के बॉडीगार्ड शुभव्रत चक्रवर्ती ने साल 2016 में सर्विस रिवॉल्वर से कथित तौर पर खुद को गोली मार ली थी, मृतक की पत्नी ने इस मामले में जांच की मांग की थी, जिसके बाद सीआईडी शुभेंदु अधिकारी से इस मामले में पूछताछ करना चाहती है, सीआईडी अब तक इस मामले में 15 से अधिक लोगों से पूछताछ कर चुकी है

Publish: Sep 05, 2021, 06:20 PM IST

बॉडीगार्ड की मौत के मामले में शुभेंदु अधिकारी को सीआईडी ने भेजा समन, सोमवार को लगानी होगी हाजिरी

कोलकाता। बीजेपी नेता और पश्चिम बंगाल विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी सीआईडी ने समन भेजा है। सीआईडी ने अधिकारी को उनके बॉडीगार्ड आत्महत्या मामले में समन भेजा है। सीआईडी ने शुभेंदु अधिकारी को सोमवार को अपने मुख्यालय में हाजिर होने का फरमान सुनाया है। बॉडीगार्ड की मौत मामले की जांच करने वाले अधिकारी शुभेंदु अधिकारी से इस मामले में पूछताछ करेंगे।  

यह मामला शुभेंदु अधिकारी के भूतपूर्व और मृतक शुभव्रत चक्रवर्ती की कथित आत्महत्या से जुड़ा हुआ है। 2018 में शुभव्रत चक्रवर्ती ने कथित तौर पर सर्विस रिवॉल्वर से खुद को गोली मार ली थी। उस समय शुभव्रत शुभेंदु अधिकारी के अंगरक्षक हुआ करते थे। शुभव्रत की पत्नी ने इस मामले में जांच की मांग की थी। जिसके बाद सीआईडी ने अपना एक जांच दल गठित किया और मामले की तहकीकात शुरू कर दी। 

सीआईडी इस मामले में अब तक कुल 15 लोगों से पूछताछ कर चुकी है। जिसमें कुल 11 पुलिस अधिकारी शामिल हैं। अब इस मामले में शुभेंदु अधिकारी की बारी आई है। सीआईडी उनसे पूछताछ करने के लिए पूर्वी मेदिनीपुर स्थित शांतिकुंज भी गई थी। शुभेंदु अधिकारी के बॉडीगार्ड रहे शुभव्रत लंबे समय तक अधिकारी के बॉडीगार्ड रहे थे।  

शुभेंदु अधिकारी वर्तमान में नंदीग्राम सीट से विधायक हैं। उन्होंने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में सीएम ममता बनर्जी को 1900 से अधिक वोटों से हरा दिया था। हालांकि अधिकारी के निर्वाचन को कलकत्ता हाई कोर्ट में चुनौती दी गई है। इस पर नवंबर महीने में सुनवाई होनी है। बीजेपी में शामिल होने से पहले शुभेंदु अधिकारी ममता बनर्जी के करीबी नेताओं में से एक माने जाते थे। लेकिन नवंबर 2020 में वे अचानक ही टीएमसी छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए।