किसानों की ब्रिटिश सांसदों से अपील, ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन को भारत आने से रोकें

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री इस साल गणतंत्र दिवस पर भारत के मुख्य अतिथि हैं, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री को 27 साल बाद यह न्योता भेजा गया है

Updated: Dec 23, 2020, 10:01 PM IST

किसानों की ब्रिटिश सांसदों से अपील, ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन को भारत आने से रोकें
Photo Courtesy: hertslive

नई दिल्ली। केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसानों ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री, बोरिस जॉनसन को भारत आने से रोकने की अपील की है। इसके लिए  आंदोलनरत किसान पंजाबी ब्रिटिश सांसदों से अपील करेंगे कि वे यह सुनिश्चित करें कि गणतंत्र दिवस के अवसर पर बोरिस जॉनसन भारत न आने पाएं। 

यह भी पढ़ें : क्यों रद्द करने चाहिए नए कृषि क़ानून, 10 अर्थशास्त्रियों ने कृषि मंत्री को बताईं 5 बड़ी वजहें

किसानों की बात जब तक सरकार न माने तब तक बोरिस जॉनसन को भारत आने से रोकें सांसद 

मंगलवार को अपनी इस अपील को लेकर किसान नेताओं ने बाकायदा एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की थी। किसान नेता कुलवंत सिंह ने मीडिया को बताया था कि वे ब्रिटेन के प्रधानमंत्री को भारत आने से रोकने के लिए ब्रिटिश सांसदों को पत्र लिख रहे हैं। जब तक केंद्र सरकार कृषि कानूनों  को वापस नहीं लेती और किसानों की बात नहीं मानती है, तब तक भारतीय मूल के ब्रिटिश सांसद बोरिस जॉनसन को भारत न आने दें।  

यह भी पढ़ें : Guna : फर्जी चेक देकर किसानों को लगाया 20 लाख का चूना

अगले साल गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि के तौर पर भारत आने वाले बोरिस जॉनसन 27 साल में पहले ब्रिटिश पीएम हैं। जॉनसन से पहले सन् 1993 में तत्‍कालीन ब्रिटिश पीएम जॉन मेजर बतौर मुख्‍य अतिथि भारत आए थे।

यह भी पढ़ें : मध्य प्रदेश की 70 फीसदी मंडियों में कारोबार ठप, क्या ये नए कृषि कानूनों का असर है

हमारे खाने का मज़ाक उड़ाया जा रहा है 

किसान नेता कुलवंत सिंह ने कहा कि जो लोग हमारे खाने का मज़ाक उड़ा रहे हैं उन्हें यह बात समझ लेनी चाहिए कि हम कोई सरकारी खाना नहीं खा रहे हैं। ये गुरुद्वारों द्वारा लगाए गए लंगर हैं। हमारी सभी रसद गांव और पिंडो से आ रही है। बड़ी संख्या में हमारे ट्रक जयपुर गुरुग्राम बॉर्डर पर खड़े हैं।

किसानों ने सरकारी रवैय्ये के खिलाफ आंदोलन को और तेज़ करने का फैसला किया है। जल्द ही किसान बीजेपी और एनडीए के नेताओं का घेराव करते भी दिख सकते हैं।