बेरोजगारी का गुजरात मॉडल, ग्राम रक्षा दल के 600 पदों के लिए उमड़ा बेरोजगारों का हुजूम, पुलिस ने भांजी लाठियां

गुजरात में ग्राम रक्षा दल में चयनित होने के बाद मिलता है महज 230 रुपए दैनिक भत्ता, बेरोजगारी के इस दौर में इस पद के लिए भी टूट पड़े हजारों लोग, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

Updated: Nov 28, 2021, 12:00 PM IST

बेरोजगारी का गुजरात मॉडल, ग्राम रक्षा दल के 600 पदों के लिए उमड़ा बेरोजगारों का हुजूम, पुलिस ने भांजी लाठियां

बनासकांठा। देशभर में बेरोजगारी का आलम किस कदर गहराता जा रहा, इसकी बानगी शनिवार को गुजरात में देखने को मिली। यहां ग्राम रक्षा दल के 600 पदों पर भर्ती निकाली गई थी, लेकिन इसके लिए भी बेरोजगार युवाओं का हुजूम उमड़ पड़ा। देश में बहुप्रचारित गुजरात मॉडल की बेरोजगारी का यह वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि एक छोटे से स्थान पर हजारों की संख्या में युवाओं का हुजूम खड़ा है। ऊपर से पुलिस लाठियां बरसा रही है, इसके बावजूद वे वहां से भाग नहीं रहे हैं। मामला गुजरात के बनासकांठा जिले के पालनपुर इलाके का है। यहां शनिवार को ग्राम रक्षा दल के लिए वेरिफिकेशन पूरा किया जा रहा था। इसी में भर्ती होने की आस लिए हजारों युवा यहां पहुंचे थे। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हजारों युवाओं की भीड़ को कंट्रोल करना पुलिस के लिए मुश्किल हुआ तो वे लाठीचार्ज करने लगे। तब जाकर किसी तरह हालात काबू में हुए। इसके बाद पुलिस स्टेशन पर एक-एक कर युवकों की ववेरिफिकेशन प्रक्रिया शुरू हुई, जो देर शाम तक चलती रही, बावजूद कइयों का वेरिफिकेशन नहीं हो सका। 

यह भी पढ़ें: कोरोना का नया वेरिएंट Omnicron भारत के लिए चेतावनी, WHO की चीफ साइंटिस्ट सौम्या स्वामीनाथन

ग्राम रक्षा दल से जुड़ी भर्तियों के विज्ञापन के मुताबिक इस पद के लिए कक्षा 5वीं से कम पास भी आवेदन दे सकते हैं। हालांकि, बनासकांठा से खबर आई कि शनिवार को जमा हुए युवकों में कई इंजीनियर, ग्रेजुएट और अन्य डिग्रीधारी छात्र भी थे। इसमें सिर्फ शारीरिक टेस्ट लिया जाता है और चयनित होने के बाद 230 रुपये दैनिक भत्ता दी जाती है। भर्ती के लिए अभ्यर्थियों को स्थानीय पुलिस स्टेशन पर जाकर स्वप्रमाणित पत्र देना होता है।

इस ग्राम रक्षा दल में नौकरी करने वालों को पंचायत स्तर पर सुरक्षा औऱ शांति कायम करने जैसी जिम्मेदारियां दी जाती है। चुनाव और अन्य आयोजनों के दौरान भी सरकारें इनकी सेवाएं लेती हैं। गुजरात के अलावा बिहार समेत अन्य कई राज्यों में इस तरह की व्यवस्था है। ग्राम रक्षा दल के लोग समय-समय पर भत्ता बढ़ाने की मांग करते हुए आंदोलन भी करते हैं।