राजस्थान सरकार ने यदि अडानी को गलत तरीके से बिजनेस दिया तो मैं इसके खिलाफ हूं: राहुल गांधी

राहुल गांधी ने कहा कि गौतम अडानी ने राजस्थान सरकार को 60 हजार करोड़ का इन्वेस्टमेंट का प्रस्ताव दिया। कोई भी मुख्यमंत्री इसे अस्वीकार नहीं करेगा। यदि फेयर प्रोसीजर के तहत बिजनेस दिया गया है तो मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं है।

Updated: Oct 08, 2022, 02:33 PM IST

राजस्थान सरकार ने यदि अडानी को गलत तरीके से बिजनेस दिया तो मैं इसके खिलाफ हूं: राहुल गांधी

बेंगलुरु। भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने शनिवार को कर्नाटक के तुरुवेकरे में कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने बीजेपी और आरएसएस पर जमकर निशाना साधा। साथ ही राजस्थान सरकार द्वारा गौतम अडानी को बिजनेस दिए जाने पर भी अपनी बात रखी। राहुल गांधी ने इस दौरान कहा कि मैं बिजनेस और कॉरपोरेट के खिलाफ नहीं हूं। मैं कंसंट्रेशन ऑफ कैपिटल के खिलाफ हूं। पूरा पॉवर यदि सिर्फ दो लोगों को मदद करने में लग जाएगा तो इससे देश को नुकसान है।

राहुल गांधी ने कहा कि, 'अडानी ने राजस्थान सरकार को 60 हजार करोड़ के इन्वेस्टमेंट का प्रस्ताव दिया है। कोई भी मुख्यमंत्री इसे अस्वीकार नहीं करेगा और करना भी नहीं चाहिए। मेरा विरोध मोनोपॉली का है। राजस्थान में अडानी को बिजनेस में कोई प्रिफरेंस नहीं दिया जा रहा है। राजस्थान सरकार ने पॉलिटिकल पावर का दुरुपयोग करके अडानी को मदद नहीं की है। यदि राजस्थान सरकार ने गलत तरीके से अडानी को बिजनेस दिया होगा तो मैं उसके खिलाफ हूं। लेकिन यदि फेयर प्रोसीजर के तहत दिया है तो मुझे उससे कोई प्राब्लम नहीं है।'

इस दौरान कांग्रेस नेता ने मीडिया से लेकर सरकार और एजेंसियों को कठघरे में खड़ा किया। राहुल गांधी ने कहा कि बीजेपी देश में नफरत फैला रही है। मीडिया पर भी सरकार का ही कंट्रोल है। हम फासीवादी लोग नहीं हैं। हमारी पार्टी संविधान पर भरोसा करती है। जो भी देश में नफरत फैलाएगा हम उसके खिलाफ लड़ेंगे। उन्होंने एक सवाल के जवाब में यह भी कहा कि आरएसएस अंग्रेजों को मदद करती थी।

भारत के विभाजन को लेकर पूछे गए एक सवाल पर राहुल ने कहा कि आजादी की लड़ाई में सावरकर अंग्रेजों के लिए काम करते थे और उसे इसके लिए पैसे मिलते थे। RSS ने भी ब्रिटिश राज का समर्थन किया था और आज उनके नफरत के खिलाफ ही भारत जोड़ो यात्रा निकाली जा रही है। PFI पर बैन को लेकर पूछे गए सवाल पर राहुल ने कहा कि भारत में घृणा और सांप्रदायिकता फैलाने वाली हर ताकत से हम लड़ेंगे। वह चाहे किसी भी समुदाय से क्यों ना आते हो। भारत जोड़ो यात्रा नफरत और हिंसा के खिलाफ ही निकाली जा रही है।

यह भी पढ़ें: भारत जोड़ो यात्रा के एक महीने पूरे, आज वॉकलिंगा समुदाय के मठ में जाएंगे राहुल गांधी

राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव को लेकर कहा कि, 'जो भी नए अध्यक्ष बनेंगे, उन्हें रिमोट कंट्रोल से चलने वाला कहना उनका अपमान होगा। सभी सक्षम हैं और चुनाव प्रक्रिया में गांधी-नेहरु परिवार का कोई हस्तक्षेप नहीं है।  ये दोनों कद्दावर नेता हैं और उनकी अपनी समझ है।' कर्नाटक में सीएम फेस को लेकर उन्होंने कहा कि यह नियमानुसार चुनाव के उपरांत तय किया जाएगा।

बता दें कि यह तीसरी बार है जब राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा के पत्रकार वार्ता को संबोधित किया है। इस दौरान राहुल ने प्रधानमंत्री मोदी पर प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं करने को लेकर भी निशाना साधा। कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख जयराम रमेश ने पीएम मोदी का नाम लिए बगैर कहा कि जो कभी प्रेस कांफ्रेंस नहीं करते कोई उनसे सवाल क्यों नहीं पूछता है? इससे पहले कांग्रेस ने पत्रकार वार्ता की सूचना देते हुए कहा था कि हम चरित्र प्रमाण पत्र नहीं मांगेंगे।