लखनऊ में युवाओं पर हुए लाठीचार्ज का विरोध, लोग बोले योगी आदित्यनाथ की मठ वापसी का आया वक्त

लखनऊ में युवा शिक्षक भर्ती की मांग को लेकर कैंडल मार्च कर रहे थे, लेकिन इसी दौरान यूपी पुलिस ने युवाओं पर बर्बर्टापूर्ण लाठीचार्ज कर दिया

Updated: Dec 05, 2021, 12:14 PM IST

लखनऊ में युवाओं पर हुए लाठीचार्ज का विरोध, लोग बोले योगी आदित्यनाथ की मठ वापसी का आया वक्त

लखनऊ। शनिवार शाम को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पुलिस ने युवाओं पर लाठीचार्ज कर दिया। पुलिसिया बर्बरता में कई युवा गंभीर रूप से घायल हो गए। युवाओं के विरुद्ध इस बर्बरतापूर्ण रवैए को लेकर युवाओं ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ की आलोचना शुरू कर दी है। सोशल मीडिया पर लोग कह रहे हैं कि योगी आदित्यनाथ के मठ में वापस जाने का वक्त आ गया है। 

दरअसल शनिवार शाम को राजधानी लखनऊ में शिक्षक भर्ती प्रक्रिया पूरी करने की मांग को लेकर युवा कैंडल मार्च कर रहे थे। कैंडल मार्च के दौरान जैसे ही युवाओं ने सीएम हाउस की ओर रुख करना चाहा, वैसे ही यूपी पुलिस के जवानों ने उनके ऊपर लाठीचार्ज कर दिया। 

यूपी पुलिस के जवान कैंडल मार्च निकाल रहे युवाओं पर टूट पड़े। पुलिस के इस बर्बर रवैए के कारण युवाओं ने इधर उधर भागना शुरू कर दिया। अपनी जान बचाने के लिए युवा रेलिंग कूदने लगे। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में यूपी पुलिस के जवान सड़क पर गिरे युवाओं पर लाठियों से वार करते दिखाई दे रहे हैं। 

यूपी पुलिस की इस बर्बरता के खिलाफ लोगों में काफी रोष देखा जा रहा है। सोशल मीडिया पर लोगों ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। एक यूजर ने लाठीचार्ज का वीडियो साझा करते हुए कहा कि योगी आदित्यनाथ के मठ में वापस जाने का समय अब आ गया है। 

वहीं विपक्षी दलों के नेताओं ने भी युवाओं के ऊपर किए गए इस लाठीचार्ज की आलोचना की है। आप नेता संजय सिंह ने कहा है कि बेरोजगारों पर हो रहा यह जुर्म योगी आदित्यनाथ की सत्ता के ताबूत में आखिरी कील साबित होगी। वहीं समाजवादी पार्टी ने भी अपने ट्विटर हैंडल पर युवाओं के ऊपर हुए लाठीचार्ज की आलोचना की है।