JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह को मोदी कैबिनेट में मिली जगह, जानें कैसा रहा है सियासी सफर

कुर्मी जाति से आने वाले आरसीपी सिंह राज्यसभा सांसद हैं, राजनीति में आने से पहले वह उत्तरप्रदेश कैडर के आईएएस अधिकारी थे, उन्हें बिहार के सीएम नीतीश कुमार का सबसे विश्वस्त नेता माना जाता है

Updated: Jul 07, 2021, 07:41 PM IST

JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह को मोदी कैबिनेट में मिली जगह, जानें कैसा रहा है सियासी सफर
Photo Courtesy : Outlook India

नई दिल्ली। केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद जेडीयू पहली बार केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल हुई है। जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह को भी केंद्र सरकार में मंत्री बनाया गया है। बिहार सीएम नीतीश कुमार के सबसे करीबी नेता आरसीपी सिंह को जेडीयू में नंबर दो का नेता माना जाता है और वे पार्टी के नीति निर्धारक रहे हैं।

राजनीति में आने से पहले IAS अधिकारी थे RCP

आरसीपी सिंह एक राजनेता से पहले नौकरशाह थे। वह उत्तरप्रदेश कैडर के IAS अधिकारी रह चुके हैं। बताया जाता है कि जब अटल बिहारी बाजपेयी की सरकार में नीतीश कुमार मंत्री थे तब उनकी दोस्ती आरसीपी सिंह से हुई। आरसीपी सिंह तब केंद्रीय मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा के निजी सचिव हुआ करते थे। नीतीश कुमार को जब रेल मंत्री बनाया गया तब उन्होंने आरसीपी सिंह को अपना विशेष सचिव बनाया था।

यह भी पढ़ें: MODI Cabinet Reshuffle Live: कुल 43 मंत्री लेंगे शपथ, देखें पूरी लिस्ट

नीतीश का आरसीपी से लगाव होने की वजह ये है कि वे भी नालंदा के रहने वाले हैं, जो नीतीश कुमार का गृहक्षेत्र है। यही नहीं वे नीतीश कुमार की बिरादरी कुर्मी जाति के ही हैं, इस वजह से नीतीश का उनपर भरोसा ज्यादा है। साल 2005 में जब नीतीश कुमार सीएम बने तब उन्होंने आरसीपी सिंह को बिहार बुला लिया और 2010 तक वे सीएम के प्रधान सचिव रहे। इसी दौरान पार्टी में उनकी पकड़ मजबूत हुई और वे नौकरी छोड़ राजनीति में आ गए।

साल 2010 में ही वह स्वैच्छिक रिटायरमेंट लेकर राज्यसभा सांसद बन दिल्ली पहुंचे। तब से लेकर अबतक वे राज्यसभा सांसद हैं। इसी साल पटना में हुई कार्यकारिणी की बैठक के दौरान सीएम नीतीश कुमार ने उन्हें जेडीयू का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने का ऐलान किया था। आरसीपी सिंह की एक पहचान ये भी है कि वे दबंग आईपीएस अधिकारी और बिहार में लेडी सिंघम के नाम से मशहूर लिपि सिंह के पिता है। आरोप लगते हैं कि राजनीतिक पकड़ के दम पर ही उन्होंने लिपि सिंह को बिहार में पोस्टिंग दिलाई। आरसीपी सिंह के दामाद और लिपि सिंह के पति का नाम सुभाष भगत है और वे बिहार के बांका जिले में डीएम हैं।