पुदुच्चेरी में 22 फ़रवरी को कांग्रेस-डीएमके सरकार की अग्निपरीक्षा, LG ने दिया फ़्लोर टेस्ट का आदेश

पुदुच्चेरी की कांग्रेस-डीएमके सरकार सोमवार को एक और विधायक के इस्तीफ़े के बाद से मुश्किल में है, जनवरी से अब तक चार विधायक इस्तीफ़ा दे चुके हैं, जिनमें दो बीजेपी में शामिल हो चुके हैं

Updated: Feb 18, 2021, 06:44 PM IST

पुदुच्चेरी में 22 फ़रवरी को कांग्रेस-डीएमके सरकार की अग्निपरीक्षा, LG ने दिया फ़्लोर टेस्ट का आदेश
Photo Courtesy : ABP News

पुदुच्चेरी। पुदुच्चेरी में मुख्यमंत्री वी नारायणसामी की अगुवाई वाली कांग्रेस-डीएमके सरकार को 22 फरवरी को विधानसभा में फ्लोर टेस्ट देना होगा। राज्य की नई गवर्नर तमिलिसाई सौंदर्यराजन ने आज इसके लिए आदेश जारी कर दिए। पुदुच्चेरी की कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार विधायक जॉन कुमार के इस्तीफे के बाद से ही संकट में मानी जा रही है। हालांकि मुख्यमंत्री नारायणसामी बहुमत का दावा कर रहे हैं। लेकिन अब 22 फरवरी को साफ हो जाएगा कि उनके पास बहुमत है या नहीं। 

मंगलवार को जॉन कुमार ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। जनवरी से अब तक इस्तीफा देने वाले जॉन चौथे विधायक हैं। उनके इस्तीफे के साथ ही प्रदेश के 33 सदस्यों वाली विधानसभा में सत्तारूढ़ कांग्रेस और द्रमुक गठबंधन के सीटों की संख्या कम होकर 14 हो गयी है। सदन में विपक्ष के भी इतने ही विधायक हैं। चार विधायकों के इस्तीफे के बाद सदन की कुल क्षमता 29 रह गयी है, जिसमें बहुमत के लिए कम से कम 15 विधायकों की ज़रूरत है।

विपक्षी दलों ने इन हालात में उप राज्यपाल से फ्लोर टेस्ट कराने की मांग की थी। अब उपराज्यपाल ने मुख्यमंत्री वी नारायणसामी को 22 फरवरी को शाम पांच तक अपना बहुमत साबित करने को कहा है। उपराज्यपाल के आदेश के बाद पुदुच्चेरी के बीजेपी अध्यक्ष वी सामीनाथन ने कहा कि मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने बहुमत खो दिया है। उनका दावा झूठा है। 22 फरवरी को उनकी सरकार गिर जाएगी। विपक्ष के सभी 14 विधायक एकजुट हैं। 

सुंदरराजन ने आज ही पुदुच्चेरी के उपराज्यपाल पद की शपथ ली है। सौंदर्यराजन को पुदुच्चेरी का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। सौंदर्यराजन ने किरण बेदी की जगह ली है। बेदी को 16 फरवरी को उपराज्यपाल के पद से हटा दिया गया था।