NDTV से रवीश कुमार का इस्तीफा, दर्शकों में मायूसी, चैनल पर हुआ अडानी का कब्जा

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने NDTV से इस्तीफा दे दिया है, इससे एक दिन पहले चैनल के संस्थापक प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने भी बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स से इस्तीफा दिया था।

Updated: Dec 01, 2022, 08:12 AM IST

NDTV से रवीश कुमार का इस्तीफा, दर्शकों में मायूसी, चैनल पर हुआ अडानी का कब्जा

नई दिल्ली। स्वतंत्र मीडिया की छवि वाले एनडीटीवी पर अडानी के कब्जे का असर दिखना शुरू हो गया है। एनडीटीवी के सबसे चर्चित पत्रकार रवीश कुमार ने इस्तीफा दे दिया है। इससे एक दिन पहले एनडीटीवी के संस्थापक प्रणय रॉय और राधिका रॉय भी बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स से इस्तीफा दे चुके हैं।

चैनल के भीतर एक इंटर्नल मेल के माध्यम से रवीश के इस्तीफे की जानकारी दी गई है। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार NDTV ग्रुप की प्रेसिडेंट सुपर्णा सिंह ने इस मेल में लिखा है कि, 'रविश जितना लोगों को प्रभावित करने वाले कुछ ही पत्रकार हैं। यह उनके बारे में अपार प्रतिक्रिया में परिलक्षित होता है; वो भीड़ जिन्हें वे अपने इर्द-गिर्द जमा करते हैं, भारत और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उन्हें मिले प्रतिष्ठित पुरस्कारों और पहचान में; और उनकी हर दिन की रिपोर्ट में, जो उन लोगों के अधिकारों और जरूरतों को पूरा करता है जो सेवा से वंचित है।'

सुपर्णा सिंह ने अपने इस मेल में आगे लिखा है कि, 'रवीश दशकों से एनडीटीवी का एक अभिन्न हिस्सा रहे हैं.. उनका योगदान बहुत अधिक रहा है, और "हम जानते हैं कि जब वह एक नई शुरुआत कर रहे हैं, वे बेहद सफल होंगे।' रवीश कुमार देश की आम जनता को प्रभावित करने वाले जमीनी मुद्दों की जबरदस्त कवरेज के लिए जाने जाते हैं। उन्हें दो बार रामनाथ गोयनका उत्कृष्टता और 2019 में रेमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

दरअसल, बीते 23 अगस्त को गौतम अडानी की अगुवाई वाले अडानी समूह ने एनडीटीवी में 29.18 प्रतिशत हिस्सा अधिग्रहित कर लिया था। तभी अडानी ग्रुप ने एनडीटीवी में और 26 फीसदी हिस्सेदारी के लिए मार्केट में ओपन ऑफर लाने का ऐलान किया था। इसी कड़ी में अडानी ग्रुप बीते 22 नवंबर को ओपन ऑफर लाया था, जो आगामी 5 दिसम्बर तक खुला है। अडानी की एंट्री के बाद से ही कयास लगाए जा रहे थे की रवीश कुमार इस्तीफा दे देंगे।

बता दें कि NDTV एक प्रमुख मीडिया हाउस है जो एनडीटीवी 24x7, एनडीटीवी इंडिया और एनडीटीवी प्रॉफिट नाम के तीन राष्ट्रीय चैनलों का संचालन करती है। एनडीटीवी कि छवि स्वतंत्र मीडिया घराने रूप में रही है। अपने आलोचनात्मक दृष्टिकोण के लिए एनडीटीवी दर्शकों के बीच मशहूर है। हालांकि, प्रणव और राधिका रॉय और रवीश कुमार के इस्तीफे के बाद एनडीटीवी के दर्शकों का मानना है कि यह चैनल भी अब कॉरपोरेट के कब्जे में चला गया। ऐसे में अब चैनल का फोकस जनहित के मुद्दों को उठाने के बजाए व्यवसाय पर ज्यादा रहेगा।