बाराबंकी: कोरोना वैक्सीन से डरे गांव के लोग, मेडिकल टीम को देखकर नदी में लगा दी छलांग

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी अंतर्गत सिसौड़ा गांव में शनिवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुँची। टीम आते देख गांव के लोगों ने सरयू नदी में छलांग लगा दी। एसडीएम के समझाने पर 18 ग्रामीणों ने वैक्सीन लगवाया।

Updated: May 24, 2021, 09:38 AM IST

बाराबंकी: कोरोना वैक्सीन से डरे गांव के लोग, मेडिकल टीम को  देखकर नदी में लगा दी छलांग
Photo courtesy: bhaskar

बाराबंकी। देश भर में कोरोना से निपटने के लिए वैक्सिनेशन अभियान चलाया जा रहा है।  कोरोना वैक्सीन को लेकर भ्रम  किस कदर ग्रामीणों के मन में बस गया है, इसकी एक बानगी बाराबंकी  जिले में देखने को मिली। जिले के सिसौड़ा गांव में वैक्सीन लगाने पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम को देख कर ग्रामीण डर गए। उन्हें वैक्सीन न लगवानी पड़े इस वजह से सरयू   नदी में छलांग लगा दी। यह नजारा देख कर स्वास्थ्य विभाग की टीम के हाथपांव फूल गए और वे ग्रामीणों से बाहर आने का अनुरोध करने लगे, लेकिन ग्रामीण नहींं माने। प्रशासन और पुलिस के अफसरों के समझाने के बाद ग्रामीण नदी से बाहर आये और वैक्सीन लगवाई। 1500 की आबादी वाले इस गांव में मात्र 18 लोग ही वैक्सीन लगवाने की हिम्मत जुटा सके।


बाराबंकी जनपद की तहसील रामनगर अंतर्गत गांव सिसौड़ा में शनिवार को ग्रामीणों को वैक्सीन लगवाने स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची थी। स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा गांव में टीकाकरण कराने की सूचना मात्र से ही ग्रामीण इतना डर गए की गांव से निकल रही सरयू नदी के किनारे आकर बैठ गए। स्वास्थ्य विभाग की टीम को जब यह सूचना मिली कि ग्रामीण नदी की तरफ है तो वे उन्हें समझाने चल दिये। अपनी तरफ टीम को आता देख कर ग्रामीण इतने भयभीत हो गए कि उन्हें भागने का रास्ता नहीं सूझा और वे टीम से बचने के लिए सरयू नदी में कूद पड़े। छलांग लगाते समय ग्रामीणों ने अपनी जान की परवाह भी नहीं की। 


ग्रामीणों को नदी में छलांग मारता देख स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी घबरा गए। वो ग्रामीणों को नदी से बाहर आने के लिए मान मनौव्वल करने  लगे, लेकिन कोई बाहर नहीं निकला। सूचना एसडीएम रामनगर राजीव शुक्ल और नोडल अधिकारी राहुल त्रिपाठी को दी गई।

मौके पर पहुंचे दोनों अफसरों ने लोगों को माइक लेकर समझाया तब जाकर लोग बाहर निकले। एसडीएम ने बताया कि गांव में साक्षरता की कमी है। इसलिए लोग वैक्सीन लगवाना नहीं चाहते। समझाने पर 18 लोगों को वैक्सीन लगाई है।