National Sports Award: राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों की इनामी राशि में इज़ाफ़ा

National Sports Day: राष्ट्रीय खेल दिवस पर खेल मंत्रालय ने राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों की इनामी राशि में की रिकॉर्ड बढ़ोतरी, तीन गुना तक बढ़ी राशि

Updated: Aug 30, 2020 03:45 PM IST

National Sports Award: राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों की इनामी राशि में इज़ाफ़ा
Photo Courtesy: The Live Mirror

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने खेल के क्षेत्र में अपना सर्वश्रेष्ठ देने वाले खिलाड़ियों को मिलने वाले राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों की इनामी राशि को बढ़ाने का ऐलान कर दिया है। पिछले काफी दिनों से यह अटकलें लगाईं जा रही थी, कि जल्द ही सरकार खेल पुरस्कारों की इनामी राशि में बढ़ोतरी कर सकती है। शनिवार को राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर खेल मंत्री किरण रिजिजू ने औपचारिक तौर पर पुरस्कारों की इनामी राशि बढ़ाने का ऐलान कर दिया।  

खेल के क्षेत्र में दिए जाने वाले सर्वोच्च सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न अवार्ड की इनामी राशि 7.5 लाख से बढ़ा कर 25 लाख कर दी गई है। वहीं अर्जुन अवार्ड और द्रोणाचार्य अवार्ड में तीन गुना की वृद्धि करते हुए, दोनों ही पुरस्कारों की इनामी राशि 15 लाख तय कर दी है। इससे पहले दोनों ही अवार्ड विजेताओं को 5 लाख रुपए की इनामी राशि प्राप्त होती थी। द्रोणाचार्य लाइफटाइम अवार्ड और रेगुलर अवार्ड की राशि क्रमशः तिगुनी और दोगुनी कर दी गई है। इससे पहले द्रोणाचार्य अवार्ड धारियों को 5 लाख रुपए की इनामी राशि मिलती थी, जो कि अब दस लाख की इनामी राशि दी जाएगी। तो वहीं लाइफटाइम अवार्ड प्राप्त करने वाले पुरस्कृत शख्सियतों को 15 लाख की इनामी राशि प्रदान की जाएगी। ध्यान चंद अवार्ड की इनामी राशि को 5 लाख से बढ़ा कर 10 लाख कर दिया गया है। 

खेल मंत्री किरण रिजिजू ने इस वर्ष रिकॉर्ड 74 राष्ट्रीय खेल पुरस्कार प्रदान करने के अपनी सरकार के फैसले का बचाव किया, जिसमें अभूतपूर्व पांच राजीव गांधी खेल रत्न सम्मान शामिल हैं। दरअसल एक ही समय में इतने सारे पुरस्कार प्रदान करने के सरकार के फैसला का विरोध हो रहा था। इस साल खेल मंत्रालय की चयन समिति ने अर्जुन पुरस्कारों के लिए 27 खिलाड़ियों का चयन करते हुए खेल रत्न के लिए स्टार क्रिकेटर रोहित शर्मा, पहलवान विनेश फोगाट सहित पांच एथलीटों की सिफारिश की थी। मंत्रालय द्रोणाचार्य के लिए 13 और ध्यानचंद पुरस्कारों के लिए 15 कोचों को सम्मानित भी करेगा।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हमारा प्रदर्शन बेहतर हो गया है 
पूर्व गृह राज्य मंत्री और मौजूदा खेल मंत्री रिजिजू ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हमारे एथलीटों का प्रदर्शन बेहतर हो गया है । जब हमारे खिलाड़ी बेहतर प्रदर्शन करते हैं तो उन्हें पहचानना और पुरस्कृत करना होता है। अगर सरकार उनकी उपलब्धियों को नहीं पहचानती है तो यह भारत में हमारे पास मौजूद हर नवोदित खेल प्रतिभाओं को हतोत्साहित करेगी ।