शाहिद अफरीदी ने कहा तालिबान क्रिकेट पसंद करते हैं, कांग्रेस सांसद ने पूछा क्या बम और AK 47 से खेलेंगे

पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी को तालिबानी क्रूरता जबर्दस्त पॉजिटिविटी की तरह नजर आ रही है, तालिबान की शान में पढ़े कसीदे, कांग्रेस सांसद ने दिया मुंहतोड़ जवाब

Updated: Aug 31, 2021, 07:07 PM IST

शाहिद अफरीदी ने कहा तालिबान क्रिकेट पसंद करते हैं, कांग्रेस सांसद ने पूछा क्या बम और AK 47 से खेलेंगे

भारत के खिलाफ अक्सर जहर उगलने वाले पाकिस्तानी क्रिकेटर शाहिद अफरीदी का तालिबान प्रेम उमड़ पड़ा है। अफरीदी को तालिबानी क्रूरता में जबर्दस्त पॉजिटिविटी नजर आ रही है। उन्होंने कहा है कि तालिबान क्रिकेट को भी पसंद करता है। अफरीदी के इस बयान पर कांग्रेस सांसद ने पूछा है कि क्या वे बम और Ak 47 से क्रिकेट खेलेंगे?

दरअसल, शाहिद अफरीदी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में वे पत्रकारों से कह रहे हैं कि, 'तालिबानी बड़े पॉजिटिव माइंडसेट के साथ आए हुए हैं। महिलाओं को काम करने, पॉलिटिक्स व अन्य रोजगार में आने की इजाजत मिल रही है। माशाअल्लाह ये चीजें जबर्दस्त पॉजिटिविटी की तरह नजर आ रही हैं।'

यह भी पढ़ें: पत्रकारिता पर तालिबानी सेंसर, कनपट्टी पर बंदूक रख आतंकी दे रहे इंटरव्यू, भयभीत एंकर ने जनता से कहा डरो मत

इतना ही नहीं अफरीदी ने यहां तक कह की तालिबान क्रिकेट को बहुत पसंद करते हैं और अफगानिस्तान में जल्द ही क्रिकेट भी बहाल हो जाएगा। अफरीदी के इस बयान पर कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने करारा पलटवार किया है। सिंह ने पूछा है कि क्या वे बम और Ak 47 से क्रिकेट खेलेंगे? उन्होंने यह भी कहा कि आप अफगानिस्तान के लेग स्पीनर राशिद खान से ही पूछ लेते। 

कांग्रेस के राज्यसभा सांसद अभिषेक मनु सिंघवी ने भी अफरीदी को उन्हीं के शब्दों में जवाब दिया है। सिंघवी ने ट्वीट किया, 'हां तालिबानी उसी तरह की पॉजिटिविटी लेकर आए हैं, जिस तरह की पॉजिटिविटी आप क्रीज पर उतरते वक़्त पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के कप्तान के लिए लेकर आते थे। कप्तान चमत्कार की उम्मीद करते थे लेकिन 10 में से 9 बार ब्रेन फेड हो जाता था।'

अफरीदी के इस बयान की न सिर्फ भारत में आलोचना हो रही है, बल्कि पाकिस्तान के लोग भी उन्हें खूब लताड़ रहे हैं। पाकिस्तानी पत्रकार नाइला इनायत ने ट्विटर पर लिखा है कि शाहिद अफरीदी को ही तालिबान का अगला प्रधानमंत्री होना चाहिए। बता दें कि क्रिकेटर से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बने इमरान खान भी कई मौकों पर खुलकर तालिबानी हुकूमत की तारीफों के पुल बांध चुके हैं।