किसानों के लिए चाहिए 132 करोड़, लेकिन मोदी सरकार ने दिए शून्य

ऐसी अनगिनत खबरों के लिए सुनें हम समवेत की ख़ास पेशकश 'समाचार सारांश'

Updated: Aug 18, 2021, 08:26 AM IST

अब अलग अलग अखबार पढ़ने से मुक्ति। हम समवेत के 'समाचार सारांश' में सुनिए एमपी के अखबारों में छपी खबरें एक साथ। यहां आपको मिलेगी वो खबरें जो आपके लिए जानना महत्वपूर्ण हैं।

 

लगातार घट रहा है केंद्र से एमपी को मिलने वाला पैसा

एमपी में किसानों की आय दोगुनी करने के दावे की हकीकत यह है कि केंद्र सरकार से राष्ट्रीय कृषि विकास योजना में मिलने वाला फंड लगातार घटता जा रहा है। इस वित्तीय वर्ष में पांच माह होने जा रहे हैं, लेकिन केंद्र से अभी तक मप्र को कोई बजट नहीं मिला है। जबकि एमपी केंद्र से 132 करोड़ रुपये मांग रहा है।


अफसरों पर भड़के भाजपा विधायक

नगरीय क्षेत्रों में विकास और सुविधाएं मुहैया कराने को लेकर हुई बैठक में भाजपा विधायकों ने 'सिस्टम' पर सवाल खड़े किए हैं। जनप्रतिनिधियों ने कहा कि अधिकारी, बिल्डरों से सांठगांठ कर धांधली कर रहे हैं। विधायकों ने कहा कि वे जहां भी जाते हैं जनता उनसे विकास मांगती है। 

समर्थक मंत्री के बयान से घिरे ज्योतिरादित्य सिंधिया

शिवराज सरकार में लोक निर्माण विभाग राज्यमंत्री सुरेश धाकड़ का बयान उनके आका केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के लिए परेशानी का कारण बन गया है। मंत्री धाकड़ ने मीडिया से चर्चा में कहा कि हमारे महाराज ज्योतिरादित्य सिंधिया कभी कुर्सी के साथ नहीं चले। कुर्सी उनके साथ चलती है। उन्हें कुर्सी का लोभ नहीं है। अपने लिए उन्होंने कहा कि मुझे तो कि महाराज का नौकर, सेवक या छोटा कार्यकर्ता मान लो। कांग्रेस इस बयान पर हमलावर हो गई है।