अग्निपथ स्कीम: CM भूपेश बघेल को आशंका, राष्ट्रीय सुरक्षा और आंतरिक शांति के लिए खतरा बनकर उभरेंगे बेरोजगार अग्निवीर

केंद्र सरकार देश की संपत्ति को बेच रही है, हम मांग करते हैं कि सेना में पूर्णकालिक भर्ती होनी चाहिए, सेना में भर्ती के लिए पैसा नहीं है तो केंद्र को श्वेत पत्र जारी करना चाहिए की स्थिति ऐसी क्यों आई है

Updated: Jun 18, 2022, 11:25 AM IST

अग्निपथ स्कीम: CM भूपेश बघेल को आशंका, राष्ट्रीय सुरक्षा और आंतरिक शांति के लिए खतरा बनकर उभरेंगे बेरोजगार अग्निवीर
Courtesy : NDTV

रायपुर। केंद्र सरकार द्वारा सेना में भर्ती के लिए अग्निपथ स्कीम को लेकर देश के कई राज्यों में बेरोजगार युवा विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। अब ये विरोध हिंसात्मक हो चुका है जिसमें कई ट्रेनों को आग के हवाले किया जा चुका है। मध्य प्रदेश, बिहार, उत्तर प्रदेश सहित दक्षिण के राज्य तेलंगाना में युवा सड़कों पर उतरकर पथराव और आगजनी कर रहे हैं। इस अग्निपथ योजना के विरोध मे अब विभिन्न राजनैतिक दलों के नेता भी उतर चुके हैं। 

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अग्निपथ योजना को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। सीएम बघेल ने 4 साल बाद बेरोजगार अग्नीवीरों को देश एवं आंतरिक शांति के लिए खतरा बताया। 

भूपेश बघेल ने कहा कि यह भर्ती प्रक्रिया बेरोजगार और निराश युवा पुरुषों और महिलाओं की भीड़ पैदा करेगा, जो युद्ध और सशस्त्र अभियानों में भारी प्रशिक्षित होंगे, राज्य की आंतरिक शांति और सुरक्षा के लिए खतरा पैदा करेंगे। इस प्रकार, मैं विनम्रतापूर्वक केंद्र सरकार से इस योजना को तुरंत वापस लेने और सेना में भर्ती प्रक्रिया के पुराने रूप को फिर से शुरू करने का आग्रह करता हूं। जो सशस्त्र बलों में नियमित नौकरी प्रदान करता है।

सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि केंद्र सरकार देश की संपत्ति को बेच रही है। हम मांग करते हैं कि सेना में पूर्णकालिक भर्ती होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सेना में भर्ती के लिए पैसा नहीं है तो केंद्र को श्वेत पत्र जारी करना चाहिए की स्थिति ऐसी क्यों आई है।

सीएम बघेल ने कहा कि 4 साल में अग्निपथ के युवा बंदूक चलाना सीख जाएंगे। बेरोजगार होने पर अपराधिक घटनाओं में शामिल होंगे। केंद्र सरकार युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है।

यह भी पढ़े: कट रहे हैं सतपुड़ा के जंगल, सारनी नगर पालिका प्रशासन पर दुर्लभ प्रजाति के पेड़ कटवाने का आरोप

सीएम भूपेश बघेल ने पेट्रोल पंप में फ्यूल की कमी को लेकर कहा कि पेट्रोल पंप एसोसिएशन के सदस्यों से शाम को चर्चा करूंगा। उन्होंने केंद्र से पूछा कि देश में पेट्रोल-डीजल की आपूर्ति घटाई जा रही है। क्या श्रीलंका की जो स्थिति है, उस दिशा में हम लोग जा रहे हैं।

सीएम ने कहा कि भारत सरकार को यह स्पष्ट करना चाहिए कि ऐसा क्यों हो रहा है? 30 से 40% पेट्रोल-डीजल में कटौती की जा रही है। इससे ट्रांसपोर्टिंग प्रभावित होने के साथ महंगाई बढ़ जाएगी। छत्तीसगढ़ में धान की बोआई का सीजन है। डीजल नहीं मिलने से खेती प्रभावित होगी। ऐसा होने से राज्य बड़े संकट में फंस सकता है।

वहीं बिहार की उप मुख्यमंत्री रेणु देवी अग्निपथ योजना को रोजगार की जगह युवाओं का कौशल प्रशिक्षण बताया है। बिहार भाजपा नेत्री रेणु देवी ने कहा कि मैं अग्निपथ योजना को रोजगार प्रदान करने वाली किसी चीज के रूप में नहीं देखती बल्कि यह सशस्त्र बलों के साथ कौशल विकास है। गौरतलब है कि बिहार में विरोध प्रदर्शन कर रहे युवाओं ने बिहार सरकार में उपमुख्यमंत्री रेणु देवी, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष संजय जायसवाल के घर पर पथराव और तोड़ फोड़ की थी। वहीं आज बेरोजगार युवाओं द्वारा 18 जून को अग्निपथ योजना के विरोध में भारत बंद का आव्हान किया गया है।