Chhattisgarh: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कांकेर की गलियों में मांगा दान

कांकेर बस स्टैंड पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ी बोली में लोगों से दान मांगते नजर आए, लोगों ने मुख्यमंत्री को अनाज से तौला, दान में मिले अनाज का उपयोग सुपोषण योजना में होगा

Updated: Jan 28, 2021, 06:17 PM IST

Chhattisgarh: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कांकेर की गलियों में मांगा दान
Photo Courtesy: twitter

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कांकेर में लोगों के साथ छेरछेरा पर्व मनाया। कांकेर बस स्टैंड पर मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ी बोली में लोगों से दान मांगते नजर आए। वे यहां के पुराना बस स्टैंड, घरों और दुकानों में छेरछेरा का दान मांगने पहुंचे। इस मौके पर लोगों दिल खोलकर मुख्यमंत्री को अनाज दान किया। लोगों ने टोकरी, सूप और बोरियों में भर-भरकर अनाज दान किया।

इस मौके पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का तुला दान किया गया। लोगों ने उन्हें तौलकर उनके वजन के बराकर अन्नदान किया। कांकेर में छेरछेरा दान मांग रहे मुख्यमंत्री का लोगों ने भाव विभोर होकर स्वागत किया।

अन्न दान के साथ लोग फल, सब्जियों और छत्तीसगढ़ी व्यंजनों का दान करते भी नजर आए। पौष पूर्णिमा पर मनाये जाने वाले लोकपर्व छेरछेरा के बारे में कहा जाता है कि इसदिन दान करने से समृद्धि आती है। मुख्यमंत्री को दान में मिले अनाज का उपयोग सुपोषण योजना में किया जाएगा, वहीं जो राशि दान में मिली है उसका उपयोग अस्पतालों में होगा।

और पढ़ें: कोंडागांव में दिखा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का गोलगप्पा प्रेम

इससे पहले मुख्यमंत्री ने जगदलपुर के हाता ग्राउंड का लोकार्पण किया। वहां उन्होंने बच्चों के साथ क्रिकेट भी खेला। इसके अलावा उन्होंने स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल योजना के अंतर्गत संचालित होने वाले शासकीय नरहरदेव इंग्लिश मीडियम स्कूल के छात्र-छात्राओं के साथ बैडमिंटन में भी हाथ आजमाया।

इनदिनों मुख्यमंत्री बस्तर दौरे पर हैं। यहां उन्होंने गौठानों में बुजुर्गों से मुलाकात कर उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी ली।  इससे पहले बुधवार को मुख्यमंत्री ने कोंडागांव चौपाटी पर गोलगप्पे का लुत्फ लिया था और बच्चों के साथ चेस खेला था।

कोंडागांव में मुख्यमंत्री ने शिल्प नगरी और बंधा तालाब जनता को लोकार्पित किया था। कोंडागांव के कोंगेरा गांव में उन्होंने 278 करोड़ रुपये की लागत से होने वाले विकासकार्यों का भूमिपूजन और लोर्कापण किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने जनता को भरोसा दिलाया कि बस्तर संभाग के विकास में धन की कमी नहीं होने देंगे।