ब्रिटिश PM बोरिस जॉनसन अगले हफ्ते नहीं आएंगे भारत, Covid-19 की वजह से दूसरी बार रद्द हुआ दौरा

केंद्रीय विदेश मंत्रालय ने सोमवार को बयान जारी कर बताया है कि अगले हफ्ते पीएम जॉनसन भारत नहीं आएंगे, अब द्विपक्षीय वार्ता वर्चुअल माध्यम से होगी, इसके पहले 26 जनवरी को भी उन्होंने भारत दौरा रद्द कर दिया था

Updated: Apr 19, 2021, 03:33 PM IST

ब्रिटिश PM बोरिस जॉनसन अगले हफ्ते नहीं आएंगे भारत, Covid-19 की वजह से दूसरी बार रद्द हुआ दौरा
Photo Courtesy: NDTV

नई दिल्ली। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भारत में कोरोना का प्रकोप देखते हुए अगले हफ्ते भारत आने का अपना पूर्व निर्धारित कार्यक्रम को रद्द कर दिया है। भारत सरकार के विदेश मंत्रालय ने आज बयान जारी कर इस बात की है। साल 2021 में यह दूसरी बार है जब जॉनसन को कोरोना की वजह से अपना भारत दौरा रद्द करना पड़ा है।

केंद्रीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने सोमवार को बयान जारी कर कहा, 'देश में कोरोना महामारी की मौजूदा हालातों को देखते हुए भारत और ब्रिटेन ने आपसी सहमति से यह फैसला किया है कि ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन अगले हफ्ते भारत नहीं आएंगे। दोनों देशों के बीच अब वर्चुअल मीटिंग होगी।'

विदेश मंत्रालय के बयान के बाद से यह स्पष्ट हो गया है कि भारत और ब्रिटेन के बीच होने वाला द्विपक्षीय वार्ता अब ऑनलाइन माध्यमों से होगा। बता दें कि जॉनसन के भारत यात्रा को लेकर यूनाइटेड किंगडम में काफी विरोध हो रहा था। ब्रिटेन की लेबर पार्टी ने इस बारे में बयान जारी कर कहा था कि, 'ब्रिटेन सरकार लोगों से अपील कर रही है कि वे बेवजह यात्रा न करें। लेकिन हमारे समझ से यह बाहर है कि खुद प्रधानमंत्री भारत क्यों जा रहे हैं। क्या ज़ूम मीटिंग से द्विपक्षीय वार्ता नहीं हो सकती है।'

यह भी पढ़ें: हांगकांग ने 3 मई तक भारतीय विमानों पर लगाई रोक, 14 दिनों तक विमानों का नहीं होगा आवागमन

जानकारी के मुताबिक पीएम जॉनसन इस यात्रा को रद्द करने के विचार में नहीं थे। चूंकि, दिसंबर 2019 में हुए ब्रिटेन में चुनाव के बाद पीएम जॉनसन की यह पहली बड़ी विदेश यात्रा थी। माना जा रहा है कि राजनीतिक दबाव में आकर उन्हें यह यात्रा रद्द करना पड़ा। इसके पहले 26 जनवरी को ही भारत सरकार ने गणतंत्र दिवस पर पीएम जॉनसन को मुख्य अतिथि के रूप में बुलाया था। इस दौरान भी ब्रिटेन के सांसद किसान आंदोलन के चलते पीएम से भारत न जाने की मांग कर रहे थे। राजनीतिक दबाव में आकर उन्हें यह दौरा भी यह कहकर टालना पड़ा था कि ब्रिटेन में कोरोना अनियंत्रित है इस वजह से वे देश से बाहर नहीं जा सकते।