श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने दिया इस्तीफा, अंतरिम सरकार बनाने का था दबाव

पीएम राजपक्षे ने कहा था कि वह जनता के लिए कोई भी बलिदान देने के लिए तैयार हैं, राष्ट्रपति भवन में इस्तीफा देने की बात पर दी सहमति

Updated: May 09, 2022, 05:08 PM IST

श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने दिया इस्तीफा, अंतरिम सरकार बनाने का था दबाव
Courtesy: TOI

कोलंबो।  श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने इस्तीफा  दे दिया है। स्थानीय मीडिया से मिली जानकारी के अनुसार, यह फैसला उन्होंने विपक्ष की अंतरिम सरकार बनाने के दबाव में दिया है। सुबह से अटकलें लगाई जा रही थीं कि राजपक्षे आज इस्तीफा दे सकते हैं। उन्होंने कहा था कि वह जनता के लिए कोई भी बलिदान देने के लिए तैयार हैं। राष्ट्रपति भवन में एक विशेष कैबिनेट में महिंदा राजपक्षे ने इस्तीफा के लिए सहमति दी है।

यह भी पढ़ें:डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंचा रुपया, पहली बार डॉलर के भाव 77 रुपए के पार

राजपक्षे अपनी ही पार्टी श्रीलंका पोदुजन पेरामुन में इस्तीफा के दबाव को झेल रहे थे। मीडिया में छपी खबर के अनुसार, पीएम राजपक्षे के छोटे भाई और श्रीलंका के राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे की सरकार पर विपक्ष का दबाव लगातार बढ़ रहा था। इस पर राष्ट्रपति गोतबाया राजपक्षे ने इस्तीफा के लिए प्रत्यक्ष रूप से अपनी इच्छा जाहिर नहीं की थी, लेकिन वे चाहते थे कि पीएम इस्तीफा दें। जिसके बाद वह राष्ट्रीय एकता की सरकार बना सकें।

यह भी पढ़ें: भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हुआ असानी, 110 की रफ्तार से हवाएं, तीन राज्यों में अलर्ट

बता दें कि महिंदा राजपक्षे पर इस्तीफा देने का दबाव कई दिनों से बन रहा था। राष्ट्रपति गोतबाया और प्रधानमंत्री राजपक्षे दोनों ही इस्तीफा देने के लिए सहमत नहीं थे। रविवार को सरकार को अनुराधापुर में भारी आक्रोश का सामना करना पड़ा था। प्रदर्शकारियों की मांग थी कि पूरा राजपक्षे परिवार राजनीति छोड़ दे। वहीं सोमवार को राजपक्षे के समर्थकों ने प्रदर्शनकारियों पर हमला कर दिया था, जिसमें 16 लोगों के घायल होने की खबर आई है। हमला पीएम के सरकारी आवास के बाहर हुआ था। 

यह भी पढ़ें:गुजरात के 600 मुस्लिम मछुआरों ने मांगी सामूहिक इच्छामृत्यु, खटखटाया हाईकोर्ट का दरवाजा

गौरतलब है कि श्रीलंका में आर्थिक संकट को लेकर जनता सड़कों पर उतरी हुई है। रसोई गैस, बिजली कटौती, ईंधन की मांग जोरो पर है। इन सब को लेकर जनता सरकार से काफी आक्रोशित है। बौद्ध गुरुओं ने भी अंतरिम सरकार बनाने के लिए राजपक्षे और मंत्रिमंडल पर इस्तीफा देने का दबाव बनाया था।