भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हुआ असानी, 110 की रफ्तार से हवाएं, तीन राज्यों में अलर्ट

अगले 5 दिनों के दौरान पूर्वोत्तर भारत में गरज के साथ हल्की या मध्यम वर्षा की संभावना है, तूफान अभी पोर्ट ब्लेयर से 570 किमी, विशाखापटनम से 670 और पुरी से 750 किमी दूर है और 25 किमी की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है

Updated: May 09, 2022, 10:48 AM IST

भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हुआ असानी, 110 की रफ्तार से हवाएं, तीन राज्यों में अलर्ट

नई दिल्ली। बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्व और इससे सटे पूर्वी-मध्य इलाकों में चक्रवात ‘असानी’ ने गंभीर रूप ले लिया है। रविवार शाम से ये भीषण चक्रवाती तूफान में बदल गया है। पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश और ओडिशा पर तूफान ने असर दिखाना शुरू कर दिया है। इन तीनों राज्यों में अलर्ट घोषित कर दिया गया है और भारी बारिश की आशंका है। माना जा रहा है कि अगले 24 घंटे भारी गुजरने वाले हैं।

हालांकि मौसम विभाग का कहना है कि जिस तरह के संकेत मिल रहे हैं, उससे लग रहा है कि ये तूफान पूर्वी तट के समानांतर चलेगा और ओडिशा व आंध्र प्रदेश को छूते हुए निकल जाएगा। IMD के मुताबिक साइक्लोन असानी का असर सबसे अधिक कार निकोबार से लगभग 610 किमी उत्तर-पश्चिम में, पोर्ट ब्लेयर से 500 किमी पश्चिम में, विशाखापत्तनम से 810 किमी दक्षिण-पूर्व और पुरी से 880 किमी दक्षिण-दक्षिण पूर्व में देखने को मिलेगा।

यह भी पढ़ें: गुजरात के 600 मुस्लिम मछुआरों ने मांगी सामूहिक इच्छामृत्यु, खटखटाया हाईकोर्ट का दरवाजा

मौसम विभाग ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे 9 मई को बंगाल की खाड़ी के मध्य भागों में, 9 और 10 को पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी में और 10 मई से 12 मई तक बंगाल की उत्तर पश्चिमी खाड़ी में न जाएं। अगले 5 दिनों के दौरान पूर्वोत्तर भारत में गरज के साथ हल्की या मध्यम वर्षा की संभावना है। 10 और 12 मई के दौरान अरुणाचल प्रदेश और 09-12 मई के दौरान असम-मेघालय और मिजोरम और त्रिपुरा में भारी बारिश की संभावना है।

आईएमडी ने मौसम को लेकर अपने पूर्वानुमान में उत्तर मध्य महाराष्ट्र 09 मई को बारिश की संभावना जताई है। वहीं पश्चिम मध्य प्रदेश में 9 से 12 मई और दक्षिण हरियाणा, दिल्ली और दक्षिण पंजाब में 10 से 12 मई को गरज के साथ बारिश के आसार हैं। असानी का रौद्र रूप देखते हुए बंगाल में भी आपदा राहत टीमों, पुलिस और अन्य लोगों को अलर्ट पर रखा गया है। पूर्व मेदिनीपुर, साउथ और नॉर्थ 24 परगना जिलों में साइक्लोन शेल्टर बना दिए गए हैं। खाने और जरूरी दवाओं का भी इंतजाम किया गया है।