Kamal Nath: उपचुनाव के नतीजों से हिम्मत नहीं हारेंगे, अभी से करेंगे 2023 की तैयारी

Digvijaya Singh: चुनाव में प्रशासन ने बीजेपी का साथ दिया, चुनाव आयोग ने भी हमारी शिकायतों पर कार्रवाई नहीं की, फिर भी ग्वालियर चंबल संभाग की 16 में से 7 सीटें हमने जीतीं

Updated: Nov 12, 2020, 10:22 AM IST

Kamal Nath: उपचुनाव के नतीजों से हिम्मत नहीं हारेंगे, अभी से करेंगे 2023 की तैयारी
Photo Courtesy: Google

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि उपचुनावों के नतीजे भले ही उम्मीद के मुताबिक़ नहीं आए, लेकिन हम हिम्मत हारने वालों में नहीं हैं। हम संघर्ष करेंगे और साल 2023 के चुनाव के लिए अभी से संघर्ष शुरू करेंगे। कमलनाथ ने कहा कि आने वाले नगर निकायों और पंचायतों के चुनाव के लिए भी हम सभी को जुटना होगा।

कमलनाथ ने ये बातें अपने निवास पर हुई कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं की बैठक में कहीं। बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुरेश पचौरी, सांसद नकुल नाथ, पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया समेत तमाम वरिष्ठ नेता मौजूद थे। इनके अलावा कांग्रेस के विधायकों, उम्मीदवारों, प्रभारियों और जिला अध्यक्षों ने भी बैठक में हिस्सा लिया।

बैठक में मौजूद कांग्रेस जनों को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि यह हार अप्रत्याशित है,  हम उन बूथों पर भी हारे , जहां पहले कभी नहीं हारे थे। हम सब मिलकर इन परिणामों की समीक्षा और विश्लेषण करेंगे। आप सभी मुझे इसकी रिपोर्ट बना कर दें, मैं भी अपने स्तर पर समीक्षा कर रहा हूं।

यह भी पढ़ें: बीजेपी जीती पर लोकतंत्र हार गया, मध्य प्रदेश के नतीजों पर बोली कांग्रेस

कमलनाथ ने कहा कि मैंने अपने जीवन में कभी किसी कांग्रेस जन का सिर झुकने नहीं दिया। जो कहते हैं कि कमलनाथ प्रदेश छोड़ कर चले जाएंगे, वे सुन लें कमलनाथ जीवन भर कांग्रेस जनों के साथ मिलकर प्रदेशवासियों की सेवा करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि हमने तो 1977 का वो दौर भी देखा है, जब लोग कहते थे कि कांग्रेस खत्म हो गई।हमने वह दौर भी देखा, जब भाजपा के पास मात्र एक-दो सीटें थी।

बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि चुनाव में हार जीत तो होती है, लेकिन लोग कहते थे कि ग्वालियर चंबल संभाग में सिंधिया जी के चले जाने के बाद कांग्रेस का सफ़ाया हो जाएगा। लेकिन हमने वहां 16 में से 7 सीटें जीतीं। भांडेर की सीट भी सिर्फ़ 161 वोट से हारे।

दिग्विजय सिंह ने कहा कि भाजपा की जीत अप्रत्याशित है। जिन बूथों पर हम आज़ादी के बाद से आज तक नहीं हारे थे, वहां भी परिणाम हमारे पक्ष में नहीं आये। प्रशासन ने भाजपा का पूरी तरह समर्थन किया, चुनाव आयोग ने भी हमारी शिकायतों पर कार्रवाई नहीं की। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी ने इन चुनावों का संचालन बहुत बेहतर ढंग से किया। कमलनाथ जी के अनुभव, सक्रियता, चुनाव के कुशल प्रबंधन पर हमें भरोसा है। हमें 2023 लिए अभी से जुट जाना चाहिए।