MP में आज से सड़कों पर उतरेंगे संविदा कर्मचारी, प्रदेशभर में व्यापक विरोध प्रदर्शन की तैयारी

स्वास्थ्य विभाग के संविदा कर्मचारी एक बार फिर से प्रदेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने को तैयार हैं।

Updated: Dec 07, 2022, 09:04 AM IST

MP में आज से सड़कों पर उतरेंगे संविदा कर्मचारी, प्रदेशभर में व्यापक विरोध प्रदर्शन की तैयारी

भोपाल। स्वास्थ्य विभाग के संविदा कर्मचारी एक बार फिर से प्रदेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने जा रहे हैं। इसके लिए संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने चरणबद्ध तरीके से आंदोलन कि रूप रेखा तैयार की है। बुधवार 7 दिसंबर से आंदोलन को शुरू कर दिया जाएगा। जिसमें प्रदेशभर के सभी संविदा कर्मचारी दो सूत्रीय मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन करेंगे।

जानकारी के मुताबिक इस आंदोलन में प्रदेशभर के संविदा डाक्टर, मेडिकल स्टाफ और पैरामेडिकल स्टाफ शामिल होंगे। जिसे लेकर तैयारियां की जा चुकी है। बुधवार से प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर वे दो दिवसीय (7-8 दिसंबर) धरना प्रदर्शन करेंगे और ज्ञापन सौंपेंगे। 

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने चरणबद्ध तरीके से आंदोलन की योजना बनाई है। इसके मुताबिक 9 और 10 दिसंबर को प्रदेश के सभी मंत्री, सांसद, विधायक, कलेक्टर और सीएमएचओ और अन्य जनप्रतिनिधियों को दो सूत्रीय मांग पत्र की जानकारी ज्ञापन के माध्यम से दी जाएगी। 12 दिसंबर को प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में शहर के प्रमुख स्थानों पर काले गुब्बारे छोड़े जायेंगे।

यह भी पढ़ें: केवल 31 फीसदी महिलाओं के पास है मोबाइल फोन, भारत में डिजिटल डिवाइड पर ऑक्सफैम की रिपोर्ट

इसके अलावा 13 दिसंबर को व्यापक स्तर पर सोशल मिडिया अभियान चलाते हुए इंटरनेट मीडिया के माध्यम से मांग पत्र पर हेतू शासन का ध्यान आकर्षित कराया जायेगा। 14 दिसंबर को प्रदेश के समस्त जिलों में अपनी जिला स्तरीय बैठकों का आयोजन कर आंदोलन में सतप्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति सुनिश्चित करेगें। यदि सरकार मांगें पूरी नहीं करती तो 15 दिसंबर से 32 हजार एनएचएम के संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे और अस्पतालों में काम बंद कर देंगे।

मध्य प्रदेश के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों को अन्य राज्यों की भांति नियमित करने की मांग है। 5 जून 2018 की नीति लागू कर उसके अनुसार नियमित कर्मचारियों का न्यूनतम 90 फीसदी वेतन एवं अन्य सुविधाऐं दिलाए जाने की मांग करेंगे।वहीं 2018 से एरियर्स देने की मांग की जा रही है। इसके अलावा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन सपोर्ट स्टाफ को आउट सोर्सिंग से हटाकर तत्काल एनएचएम में वापस लेने की मांग की गई है। इसके साथ ही अप्रेजल से निष्काशित कर्मचारियों को तत्काल एनएचएम में वापस लिये जाने संबंधित आदेश जारी करने की मांग है।