The Palm Fountain: ‘द पाम फाउंटेन’ देखने को देखने के लिए बेताब हुई दुनिया, 22 अक्टूबर से होगा दीदार

जल्द ही दुबई के नाम एक और रिकॉर्ड दर्ज होने जा रहा है, यहां दुनिया के सबसे बड़े फाउंटेन का उद्घाटन होने वाला है, द पाम फाउंटेन’ सुपर शूटर 105 मीटर की ऊंचाई पर होंगे

Updated: Oct-06, 2020, 02:11 AM IST

The Palm Fountain: ‘द पाम फाउंटेन’ देखने को देखने के लिए बेताब हुई दुनिया, 22 अक्टूबर से होगा दीदार
Photo Courtesy: Indian express

दुबई के प्रमुख लाइफस्टाइल और डाइनिंग डेस्टिनेशन नखील मॉल द्वारा दुनिया के सबसे बड़े फाउंटेन की लॉन्चिंग की तैयारी की जा रही है। ‘द पाम फाउंटेन’, पाम जुमेराह के नए वाटरफ्रंट का उद्घाटन 22 अक्टूबर को होगा। दुबई को उम्मीद है कि इस फाउंटेन का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज हो सकेगा।

यह 14 हजार वर्ग फीट में फैला है। फाउंटेन के सुपर शूटर 105 मीटर की ऊंचाई पर होंगे और ये तीन हजार से अधिक एलईडी लाइट्स की रोशनी से सजे होंगे। फाउंटेन की लॉन्चिंग के दिन द प्वाइंट के विजिटर्स को पूरे दिन के कार्यक्रमों और प्रतियोगिताओं का आनंद लेने के लिए बुलाया गया है। इस कार्यक्रम में जिसमें कई डीजे सेट, डांस शो होंगे जिनमें बहुत से कलाकार शामिल होंगे। इस दौरान एक आतिशबाजी शो का भी आयोजन किया जा रहा है।इस फाउंटेन शो को देखने के लिए आम जनता को भी आमंत्रित किया गया है।

दुबई के नखील मॉल के प्रबंध निदेशक उमर खूरवी का कहना है कि "दुबई में रिटेल और लाइफस्टाइल डेस्टिनेशन के पायनियर के रूप में द पाम फाउंटेन का शुभारंभ अहम होगा। 

पाम फाउंटेन में 20 अलग-अलग शो होंगे। जिसमें हरेक में पांच शो होंगे। दर्शक इनका आनंद शाम 7 बजे से रात 12 बजे के बीच ले सकेंगे। हर आधे घंटे के बाद तीन मिनट का शो होगा। इस दौरान खलीजी, पॉप, क्लासिक, अंतर्राष्ट्रीय म्यूजिक का लुत्फ भी दर्शक ले सकेंगे।

इसका निर्माण बीजिंग वॉटर डिज़ाइन टेक्नोलॉजी की मदद से किया गया है। बीजिंग वॉटर डिज़ाइन टेक्नोलॉजी के चेयरमैन शिन सु का कहना है कि “हम एक असाधारण उपलब्धि - द पाम फाउंटेन के डिजाइन, निर्माण और संचालन का हिस्सा बनकर गर्व महसूस कर रहे हैं। चीन के सबसे बड़े फाउंटेन एक्सपर्ट्स में से एक के रूप में, यह परियोजना हमारे लिए अद्वितीय थी, क्योंकि हमारे पास सरलता में कई प्रथम मुकाबला करने का अवसर था। ”

बीजिंग वाटर डिजाइन टेक्नोलॉजी ने द पाम फाउंटेन के डिजाइन, निर्माण और संचालन में अहम भूमिका निभाई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि GWR वर्तमान में सबसे बड़े फव्वारे की पुष्टि करने की प्रक्रिया में है और एक बार इसके हो जाने के बाद, आधिकारिक तौर पर लैंडमार्क घोषित कर दिया जाएगा।