केवल 31 फीसदी महिलाओं के पास है मोबाइल फोन, भारत में डिजिटल डिवाइड पर ऑक्सफैम की रिपोर्ट

ऑक्सफैम की रिपोर्ट के अनुसार भारत में पुरुषों की तुलना में महिलाओं के पास फोन रखने की संभावना 15 फीसदी कम है और मोबाइल इंटरनेट सेवाओं का उपयोग करने की संभावना 33 फीसदी कम है।

Updated: Dec 06, 2022, 06:58 PM IST

केवल 31 फीसदी महिलाओं के पास है मोबाइल फोन, भारत में डिजिटल डिवाइड पर ऑक्सफैम की रिपोर्ट

नई दिल्ली। ऑक्सफैम ने भारत में डिजिटल डिवाइड को लेकर चौंकाने वाला खुलासा किया है। ऑक्सफैम की एक रिपोर्ट के मुताबिक देश में केवल 31 फीसदी महिलाओं के पास मोबाइल फोन है। 

ऑक्सफैम द्वारा जारी "इंडिया इनइक्वलिटी रिपोर्ट 2022: डिजिटल डिवाइड" के अनुसार, भारतीय महिलाओं के पास मोबाइल फोन होने की संभावना 15 फीसदी कम है और पुरुषों की तुलना में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं का उपयोग करने की संभावना 33 फीसदी कम है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि महिलाओं के पास आमतौर पर ऐसे हैंडसेट होते हैं जिनकी कीमत कम होती है और वे पुरुषों की तरह परिष्कृत नहीं होते हैं, और डिजिटल सेवाओं का उनका उपयोग आमतौर पर सीमित फोन कॉल और टेक्स्ट संदेश होता है। महिलाएं कम बार और कम तीव्रता से डिजिटल सेवाओं का उपयोग करती हैं, और वे कम कारणों से इंटरनेट का उपयोग कम बार करती हैं।'

रिपोर्ट में कहा गया है कि एशिया-प्रशांत क्षेत्र में, भारत 40.4 फीसदी के व्यापक लिंग अंतर के साथ सबसे खराब स्थिति में है। इतना ही नहीं आगे कहा गया है कि भारत दुनिया के आधे लिंग वाले डिजिटल डिवाइड के लिए जिम्मेदार है। यहां सभी इंटरनेट यूजर्स में से केवल एक तिहाई महिलाएं हैं। 

रिपोर्ट ग्रामीण-शहरी डिजिटल विभाजन की ओर भी इशारा करती है। ग्रामीण क्षेत्रों में प्रति 100 इंटरनेट ग्राहकों की संख्या 34 से कम है। शहरी केंद्रों में ये 101 से अधिक है। ऑक्सफैम इंडिया के सीईओ अमिताभ बेहर ने इसके लिए आर्थिक और सामाजिक असमानता को जिम्मेदार बताया है।