इमरती देवी और गिर्राज दंडोतिया का इस्तीफा मंज़ूर

गिर्राज दंडोतिया और इमरती देवी का इस्तीफा अब तक मंज़ूर नहीं किया गया था, जबकि ऐंदल सिंह कंषाना का इस्तीफा पहले ही मंजूर किया जा चुका था

Updated: Jan 03, 2021, 08:41 PM IST

इमरती देवी और गिर्राज दंडोतिया का इस्तीफा मंज़ूर
Photo Courtesy: Navbharat times
भोपाल। उपचुनाव हारने वाले सिंधिया समर्थक दोनों ही मंत्री इमरती देवी और गिर्राज दंडोतिया का इस्तीफा राज्य सरकार ने स्वीकार कर लिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इमरती देवी और गिर्राज दंडोतिया के मंत्री पद पर 6 महीने के कार्यकाल पूरा करने पर दोनों का इस्तीफा मंजूर किया गया है। 
 
दरअसल ऐंदल सिंह कंषाना, इमरती देवी और गिर्राज दंडोतिया उपचुनाव में हार गए थे। ऐंदल सिंह कंषाना ने चुनाव हारने के दो दिन के भीतर ही इस्तीफा दे दिया था। जबकि दंडोतिया ने चुनाव हारने के लगभग दस दिन बाद इस्तीफा दे दिया था। इमरती देवी ने भी 24 नवंबर को इस्तीफा दे दिया था। शिवराज सरकार ने ऐंदल सिंह कंषाना का इस्तीफा 27 नवंबर को मंज़ूर कर लिया था। जबकि इमरती देवी और गिर्राज दंडोतिया का इस्तीफा अब तक मंज़ूर नहीं हुआ था। 
इमरती देवी कमलनाथ सरकार और फिर शिवराज सरकार दोनों ही बार महिला बाल विकास मंत्री रहीं, जबकि दंडोतिया शिवराज सरकार में कृषि राज्य मंत्री बनाए गए थे। दोनों ने ही ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस छोड़कर बीजेपी ज्वाइन कर लिया था।
 
इमरती देवी को डबरा विधानसभा उपचुनाव में सुरेश राजे ने सात हजार वोटों से हराया था। जबकि गिर्राज दंडोतिया दिमनी विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस के रवींद्र सिंह तोमर से चुनाव हार गए थे।