अपनी सरकार के काले कारनामों को रफू करने में लगे हैं शिवराज : कमल नाथ

पूर्व सीएम कमल नाथ ने सीएम को उज्ज्वला योजना के तहत महिलाओं को सिलाई मशीन दिए जाने के वादे की याद दिलाई, कांग्रेस नेता ने सीएम के घोषणा पत्र को झूठ पत्र करार दिया

Updated: Feb 17, 2023, 02:01 PM IST

अपनी सरकार के काले कारनामों को रफू करने में लगे हैं शिवराज : कमल नाथ

भोपाल। मध्य प्रदेश में तेज़ होती चुनावी सरगर्मी के बीच पूर्व सीएम कमल नाथ और राज्य के मौजूदा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बीच वार पलटवार का दौर जारी है। कमल नाथ रोज़ाना सीएम शिवराज को उनकी उन घोषणाओं की याद दिला रहे हैं जोकि सीएम ने कभी पूरे नहीं किए।

इसी क्रम में कमल नाथ ने आज सीएम को उज्ज्वला योजना के तहत महिलाओं को सिलाई मशीन उपलब्ध कराए जाने के उनके वादे की याद दिलाई। वहीं कांग्रेस नेता ने सीएम पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि वे अपनी सरकार के काले कारनामों को रफू करने में लगे हुए हैं। 

कमल नाथ ने कहा कि शिवराज जी आप पानी में मथानी चलाकर घी निकालना चाहते हैं। यह अपना और पूरी जनता का समय बर्बाद करने के षड्यंत्र के अलावा कुछ नहीं है। आपके इसी झूठ के कारण आपकी निकास यात्रा में जनता रोज आपकी फजीहत कर रही है। 

पीसीसी चीफ ने सीएम शिवराज के घोषणा पत्र को झूठ पत्र करार देते हुए कहा कि आपने अपने "झूठ पत्र" में वादा किया था: उज्ज्वला योजना की लाभार्थी महिलाओं को छोटे घरेलू व्यवसाय शुरू करने के लिए सिलाई मशीन जैसे जरूरी उपकरण हेतु आर्थिक सहायता दी जाएगी।आपने कितनी सिलाई मशीनें उपलब्ध करा दीं, जरा जनता को बताएं। या आप सिर्फ अपनी सरकार के काले कारनामों को रफू करने में लगे हैं।

वहीं सीएम शिवराज ने भी मीडिया से बात करते समय कमल नाथ के महज़ पंद्रह महीने के कार्यकाल पर सवाल खड़े किए। सीएम ने कहा कि कांग्रेस ने 17 से 45 साल की महिलाओं की सुरक्षा हेतु एप्प इंस्टाल्ड स्मार्ट फोन नि:शुल्क देने का वादा किया था। कमलनाथ जी, जवाब दीजिए कि आपने यह वचन भी क्यों पूरा नहीं किया?

मध्य प्रदेश में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं। लोकसभा चुनावों से पहले मध्य प्रदेश सहित छत्तीसगढ़ और राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनावों को आम चुनावों से पहले के सेमीफाइनल के तौर पर देखा जा रहा है। 

खास तौर पर मध्य प्रदेश के चुनावों पर सबकी नज़रें टिकी हुई हैं क्योंकि पिछली बार राज्य की जनता ने कांग्रेस पर भरोसा जताया था लेकिन बीच में बीजेपी ने चोर दरवाज़े के ज़रिए सत्ता हासिल कर ली। ऐसे में इस बार ऊंट किस करवट बैठता है इसको लेकर देश भर में दिलचस्पी है। ख़ुद सीएम शिवराज के लिए यह चुनाव उनके राजनीतिक करियर के भविष्य के लिए सबसे अहम चुनाव माना जा रहा है।