MP में बाल कांग्रेस का गठन, लक्ष्य गुप्ता बने स्टेट कैप्टन, कमलनाथ बोले- नौजवान देंगे दुष्प्रचार का जवाब

पीढ़ी को स्वतंत्रता संग्राम से जुड़े तथ्य, भारतीयता का बोध और देशभक्ति का पाठ पढ़ाने के लिए मध्यप्रदेश कांग्रेस की अहम पहल, बाल दिवस के मौके पर बाल कांग्रेस का किया गठन

Updated: Nov 14, 2021, 04:27 PM IST

MP में बाल कांग्रेस का गठन, लक्ष्य गुप्ता बने स्टेट कैप्टन, कमलनाथ बोले- नौजवान देंगे दुष्प्रचार का जवाब
Photo Courtesy: Twitter

भोपाल। भारत अपनी आजादी के 75 वर्ष पूरा कर रहा है। स्वतंत्रता संग्राम में योगदान देने वाले सेनानियों की अब चौथी पीढ़ी सामने आ रही है। इस पीढ़ी को स्वतंत्रता संग्राम से जुड़े तथ्य, भारतीयता का बोध और देशभक्ति का पाठ पढ़ाने के लिए मध्यप्रदेश कांग्रेस द्वारा एक अहम पहल की गई है। पीसीसी चीफ कमलनाथ ने आज बाल कांग्रेस का पुनर्गठन कर दिया है। बाल कांग्रेस की कमान 10वीं के छात्र लक्ष्य गुप्ता को दी गई है।

बाल कांग्रेस का गठन करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने मीडिया को संबोधित कर कहा कि हमारे देश और प्रदेश का भविष्य दांव पर है, क्योंकि इससे खिलवाड़ किया जा रहा है। इतिहास को तोड़-मरोड़ कर प्रस्तुत किया जा रहा है। बीजेपी के पास इंटरनेट मीडिया की बड़ी मशीनरी है। इसका जवाब बाल कांग्रेस देगी। युवा पीढ़ी मध्य प्रदेश के भविष्य की नयी इबारत लिखेगी। देश तभी सुरक्षित रह सकता है, जब आप इतिहास को समझें और जानें। नई पीढ़ी का ध्यान मोड़ने के लिए आज बहुत सारे भ्रम फैलाए जा रहे हैं। लोगों को बहकाने का प्रयास किया जा रहा है। इसके खिलाफ खड़ा होने की जरूरत है।' 

बता दें कि बाल कांग्रेस में अन्य संगठनों की तरह अध्यक्ष पद नहीं होगा, बल्कि इसके लिए कैप्टन शब्द का इस्तेमाल किया जाएगा। इसमें प्रदेश का मुखिया राज्य कैप्टन होगा वहीं प्रत्येक संभागों में डिवीजनल कैप्टन की नियुक्ति होगी। साथ ही प्रत्येक जिलों में डिस्ट्रिक्ट कैप्टन और तहसील में ब्लॉक कैप्टन की नियुक्ति की जाएगी। स्टेट कैप्टन लक्ष्य गुप्ता प्रदेश भर में दौरा करेंगे और प्रतिभाशाली बालकों को चुनकर उन्हें अपने साथ जोड़ेंगे।

हम समवेत से बातचीत के दौरान स्टेट कैप्टन लक्ष्य गुप्ता ने बताया कि उनकी उम्र 16 वर्ष है और वे 10वीं कक्षा में पढ़ाई करते हैं। लक्ष्य के मुताबिक आने वाले समय में वे गांव-गांव जाकर युवा पीढ़ी को स्वतंत्रता संग्राम, आजादी के नायकों उनके व्यक्तित्व और कृतित्व के बारे में बताएंगे। लक्ष्य ने पढ़ाई को लेकर पूछे जाने पर कहा है कि वे पढ़ाई के समय पढ़ाई करेंगे, चाहे प्रदेश के जिस कोने में हों और उससे समय निकालकर युवा पीढ़ी को बाल कांग्रेस के साथ जोड़ने का काम करेंगे। 

लक्ष्य ने आगे कहा कि बीते कुछ वर्षों से व्यापक स्तर पर झूठा इतिहास फैलाया जा रहा है, उसकी हकीकत नई पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए बाल कांग्रेस की टीम काम करेगी। उन्होंने यह भी कहा कि आजादी की लड़ाई से लेकर भारत के विकास में कांग्रेस के योगदान को लेकर भी नई पीढ़ी को जागरूक किया जाएगा। बाल कांग्रेस की टीम में 16 से 20 वर्ष के युवा शामिल होंगे।

माना जा रहा है कि बाल कांग्रेस का गठन करने के पीछे कांग्रेस का उद्देश्य किशोरावस्था में ही नीतियों, राष्ट्र निर्माण के लक्ष्य और भारत के निर्माण से जुड़े कांग्रेस के कार्यक्रमों के बारे में बौद्धिक रूप से सुसज्जित करने की है। वर्तमान समय में बाल कांग्रेस का कांसेप्ट भले ही नया लगे, लेकिन इंदिरा गांधी के दौरान देश के कई राज्यों में बाल कांग्रेस की इकाई हुआ करती थी।