मध्य प्रदेश अजब भी है, गजब भी है और सजग भी है, ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में बोले पीएम मोदी

ये ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट ऐसे समय पर हो रहा है, जब भारत का अमृत काल शुरू हो चुका है। हमने नए रिफ़ॉर्म कर इन्वेस्टमेंट्स के रास्ते से रोड़े हटाये हैं: पीएम मोदी

Updated: Jan 11, 2023, 02:21 PM IST

मध्य प्रदेश अजब भी है, गजब भी है और सजग भी है, ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में बोले पीएम मोदी

इंदौर। मध्य प्रदेश के इंदौर में 3 दिवसीय एनआरआई समिट के समापन के बाद बुधवार को 2 दिवसीय ग्लोबल इनवेस्टर्स समिट की शुरुआत हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस समिट का उद्घाटन किया। इस अवसर पर पीएम मोदी ने कहा कि विकसित भारत के निर्माण में मध्य प्रदेश की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है।

पीएम मोदी ने कहा कि, 'आस्था-अध्यात्म से लेकर पर्यटन तक, कृषि से लेकर शिक्षा और स्किल डेवलपमेंट तक मध्य प्रदेश अजब भी है, गजब भी है और सजग भी है। एक स्थिर सरकार, एक निर्णायक सरकार और सही नीयत से चलने वाली सरकार 'विकास' को अभूतपूर्व गति देती है। देश के लिए हर जरूरी फैसले लेती है। बीते आठ वर्षों में हमने रिफॉर्म की गति और स्केल को लगातार बढ़ाया है।'

पीएम मोदी ने इस कार्यक्रम को वर्चुअली संबोधित करते हुए कहा कि पिछले आठ वर्षों में हमने नेशनल हाईवे के निर्माण की गति दोगुनी की है। इस दौरान भारत में ऑपरेशनल एयरपोर्ट्स की संख्या दोगुनी हो चुकी है। भारत की पोर्ट हैंडलिंग कैपेसिटी और पोर्ट टर्नअराउंड में अभूतपूर्व सुधार आया। 

उन्‍होंने कहा कि, 'ये ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट ऐसे समय पर हो रहा है, जब भारत का अमृत काल शुरू हो चुका है। देश के लिये हर ज़रूरी फ़ैसले उतनी ही तेज़ी से लिये जाते है। हमने नये रिफ़ॉर्म कर इन्वेस्टमेंट्स के रास्ते से रोड़े हटाये हैं। दर्जनों लेबर लॉ के फोर कोड में समाहित किया है। बीते कुछ समय में क़रीब 40 हजार अनुपालन (compliances) को हटाया जा चुका है।'

पीएम मोदी ने कहा, 'भारत की आधुनिक होती अधोसंरचना निवेश की संभावनाओं को जन्म दे रहा है। राष्‍ट्रीय राजमार्ग बनाने की रफ़्तार दोगुना हो चुकी है। स्मार्ट फोन डेटा खपत में हम नंबर वन हैं। भारत के बेहतरीन डिजिटल बुनियादी ढाँचे को लेकर हर कोई विश्वास से भरा है। ऑपटिकल फाइबर नेटवर्क और 5जी नेटवर्क का विस्तार तेजी से हो रहा है। ग्रीन एनर्जी को लेकर आपको भारत की आकांक्षाओं से जुड़ना चाहिये, जो 8 लाख करोड़ रुपये के निवेश की संभावनाओं को लेकर आ रहा है। हेल्थ, कृषि, न्यूट्रिशन हर सेक्टर में नई संभावनायें आपका इंतज़ार कर रही है।'