सिक्किम में शहीद हुआ रतलाम का बेटा, पीछे छूटीं दो मासूम बेटियां

सिक्किम में सेना के वाहन की सफाई के दौरान हुआ विस्फोट, मध्यप्रदेश के रतलाम जिले के जवान कन्हैया लाल शहीद, कल पैतृक निवास पर सैन्य सम्मान के साथ होगा अंतिम संस्कार

Updated: May 23, 2021, 04:55 PM IST

सिक्किम में शहीद हुआ रतलाम का बेटा, पीछे छूटीं दो मासूम बेटियां

रतलाम। मध्यप्रदेश के रतलाम जिले के सपूत इंडियन आर्मी के लांस नायक कन्हैया लाल जाट के शहीद होने की खबर है। बताया जा रहा है कि सिक्किम में तैनात कन्हैया लाल ड्यूटी के दौरान सैन्य वाहन साफ कर रहे थे इसी दौरान अचानक हुए विस्फोट में उनकी जान चली गई। कन्हैया के शहीद होने की खबर से जिले में शोक की लहर दौड़ गई है। कन्हैया लाल का अंतिम संस्कार कल उनके पैतृक गांव गुणावद में सैन्य सम्मान के साथ किया जाएगा।

शहीद लांस नायक कन्हैया लाल जाट के भाई बलराम जाट ने बताया कि शनिवार रात करीब 10 बजे उनके बटालियन से फोनकॉल पर उनके शहीद होने की सूचना दी गई। उन्होंने बताया कि कन्हैया भारतीय सेना की सीएमपी यूनिट में सिक्किम में तैनात थे। वहां शनिवार शाम ड्यूटी के दौरान वाहन की सफाई करते वक्त हुए भीषण हादसे में उनकी मृत्यु हो गई। विस्फोट इतना भयानक था कि घटनास्थल पर ही उन्होंने दम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ें: नरसिंहपुर की बेटी ने ग्रामीणों के लिए घर को बनाया अस्पताल, टेलीमेडिसिन के जरिए हो रहा इलाज

कन्हैया लाल के बटालियन से जैसे ही घरवालों को यह सूचना दी गई पूरे गुणावद गांव में मातम पसर गया। सेना को दर्जनों वीर सपूत देने वाले इस गांव के लोग कन्हैया के घर के पास इकट्ठा हो गए और उन्होंने शोकाकुल परिवार को ढाढस बंधाया। रिपोर्ट्स के मुताबिक शहीद का पार्थिव शरीर गंगटोक से हवाईजहाज द्वारा इंदौर एयरपोर्ट लाया जाएगा। यहां से शहीद को गुणावद गांव ले जाया जाएगा, जहां सैन्य सम्मान के साथ उन्हें आखिरी विदाई दी जाएगी।

पीछे छोड़ गए दो मासूम बेटियां

ग्रामीणों के मुताबिक भारतीय सेना में कन्हैया का चयन साल 2008 में हुआ था। उनकी शादी साल 2013 में उज्जैन के इंगोरिया में हुई थी। 32 वर्षीय कन्हैया अपने पीछे दो मासूम बेटियों को छोड़ गए। उनकी बड़ी बेटी आराध्या की उम्र 6 साल है, वहीं छोटी बेटी आरोषि की उम्र तीन साल है।