हम आज़ाद थे, आज़ाद हैं और आज़ाद रहेंगे, स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर दिग्विजय सिंह का संदेश

स्वतंत्र भारत की मजबूत नींव पंडित नेहरू, सरदार पटेल ने रखी, सुदृढ भारत इंदिरा गांधी, आधुनिक भारत राजीव गांधी व समृद्ध भारत डॉ मनमोहन सिंह के संकल्पों की देन: दिग्विजय सिंह

Updated: Aug 14, 2022, 05:15 PM IST

हम आज़ाद थे, आज़ाद हैं और आज़ाद रहेंगे, स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर दिग्विजय सिंह का संदेश

भोपाल। देशभर में स्वतंत्रता दिवस की तैयारियां जोरों पर है। स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता व राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने देशवासियों के नाम संदेश जारी किया है। सिंह ने कहा कि, 'आज देश की आज़ादी को 75 साल पूरे हो गए हैं और समूचा देश हर्ष और उल्लास के साथ आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। हम आज़ाद हैं क्योंकि हमारे देश के हज़ारों, लाखों लोगों ने देश की आज़ादी के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी। हम आज़ाद हैं क्योंकि हज़ारों लोगों ने अपने परिवारों की परवाह किये बगैर त्याग, तपस्या और बलिदान देकर अपने खून से सींचकर देश को आज़ादी दिलाई।'

कांग्रेस नेता ने आगे कहा कि, 'महात्मा गांधी ने अनवरत अहिंसक आंदोलनों से पूरे देश को संगठित कर आज़ादी की अलख जगाई, तब जाकर आज़ादी हर देशवासी के हिस्से में आई। पंडित जवाहरलाल नेहरू और सरदार पटेल ने मजबूत भारत की नींव रखी, इंदिरा गांधी ने सुदृढ भारत बनाया। राजीव गांधी ने आधुनिक भारत के सपनों को अमली जामा पहनाया और डॉ मनमोहन सिंह की आर्थिक नीतियों ने समृद्ध भारत का निर्माण किया। आज 76वें स्वतंत्रता दिवस पर देशवासियों को ये समझना होगा कि लाखों लोगों के बलिदानों के बल पर मिली आज़ादी इतनी सस्ती नही है कि हर कोई हमारे भारत को अंदर ही अंदर से खोखला करने लग जाये और हम हाथ पर हाथ धरे देखते रह जाएं।'

यह भी पढ़ें: 75वाँ स्वतंत्रता दिवस: जागते हुए चेहरों पर भी हो खुशी, संगीत और दोस्ती

उन्होंने आगे कहा कि, 'आज़ादी की लड़ाई बराबरी से हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सहित हर धर्म व हर जाति वर्ग के लोगों ने एकजुट होकर लड़ी। लेकिन कुछ फिरकापरस्त ताकतें हमारे देश की सर्वधर्म समभाव की बुनियादी ताकत को कमजोर और खोखला  करने में जुटी हुई हैं। हमारा स्वतंत्र भारत तभी तक मजबूत है जब तक हर एक नागरिक एक दूसरे के धर्म के प्रति सम्मान करते रहेंगे और एक दूसरे के अधिकारों की लड़ाई लड़ेंगे। आज ज़रूरत है "नफ़रत  छोड़ो,भारत जोड़ो" जैसे प्रयासों की। आज़ादी के अमृत महोत्सव में देश की आज़ादी में अपनी महती भूमिका निभाने वाली कांग्रेस अब देश को जोड़ने की दिशा में भारत जोड़ो पद यात्रा का आयोजन कर रही है जो  कन्याकुमारी से कश्मीर तक लगभग 3500 किलोमीटर की यात्रा है।'

सिंह ने देश के सभी नागरिकों से आह्वान करते हुए कहा कि देश को तोड़ने वाली शक्तियों को मुहतोड़ जवाब देने के लिए कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होकर नफ़रत फैलाने वालों को सबक सिखाने का काम करें। उन्होंने कहा कि, 'लोकतंत्र की मजबूती व आज़ादी की सार्थकता, देशवासियों की एकता में ही निहित है। हम आज़ाद थे, आज़ाद हैं और आज़ाद रहेंगे इसी भावना के साथ समस्त देशवासियों को मेरी ओर से स्वतंत्रता दिवस की अनंत शुभकामनाएं।'