दूसरी लहर में हर गांव में हुई कम से कम 10 मौतें, BJP नेता ने माना कि ध्वस्त हुई स्वास्थ्य व्यवस्था

उत्तरप्रदेश के बलिया से बीजेपी के दिग्गज नेता ने दावा किया है कि प्रदेश के हर गांव में 10 लोगों की मौत हुई, बोले- दवा छोड़िए हवा के बिना मरे लोग

Updated: Jun 27, 2021, 04:58 PM IST

दूसरी लहर में हर गांव में हुई कम से कम 10 मौतें, BJP नेता ने माना कि ध्वस्त हुई स्वास्थ्य व्यवस्था
Photo Courtesy: Reuters

बलिया। उत्तरप्रदेश बीजेपी के वर्किंग कमेटी के मेंबर व पूर्व विधायक रामइकबाल सिंह ने दावा किया है कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान हर गांव में कम से कम 10 लोगों की मौत हुई। बीजेपी नेता ने इसका कारण यह बताया है कि पहली लहर से सरकार ने कोई सबक नहीं ली। सिंह ने यह भी स्वीकार किया है कि दूसरी लहर में स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो गई।

बलिया के फायरब्रांड बीजेपी नेता ने जिले के नगरा में शनिवार को स्थानीय पत्रकारों से बातचीत के दौरान ये बातें कही। इस दौरान उन्होंने योगी सरकार की कार्यशैली पर निशाना साधते हुए कहा कि, 'दवा तो छोड़िए, आम लोग हवा की कमी से अस्पतालों में तड़प-तड़पकर मर गए।' उन्होंने साल 2021 को भारतीय नागरिकों के लिए काला वर्ष करार दिया।

यह भी पढ़ें: MP पुलिस के 152 जवानों की हुई कोरोना से मौत, केवल 7 के नसीब में आया सरकारी मुआवजा

इतना ही नहीं उन्होंने नसीहत दी कि इस हृदयविदारक घटना पर जिम्मेदार लोगों को गाल नहीं बजाना चाहिए, बल्कि जनता से माफी मांगनी चाहिए।' बीजेपी नेता ने कहा, 'बलिया में सिर्फ 30 बेड का अस्पताल बिना आक्सीजन प्लांट के संचालित था। स्वास्थ्य महकमा चाहता तो पूरे जनपद के सीएचसी, पीएचसी को मिलाकर 1000 से 1500 बेड संचालित किए जा सकते थे, लेकिन कोई तैयारी नहीं की गई थी।