CBI ने अपने ही अफ़सरों-कर्मचारियों पर दर्ज किया भ्रष्टाचार का केस , 14 ठिकानों पर छापेमारी

सीबीआई के दो डीएसपी, एक इंस्पेक्टर और एक स्टेनो पर करीब 3500 करोड़ के बैंक फ्रॉड केस की जांच के दौरान भ्रष्टाचार करने का आरोप लगा है

Updated: Jan 15, 2021, 09:57 AM IST

CBI ने अपने ही अफ़सरों-कर्मचारियों पर दर्ज किया भ्रष्टाचार का केस , 14 ठिकानों पर छापेमारी
Photo Courtesy: The Wire

नई दिल्ली। केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई ने अपने ही अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया है। सीबीआई ने कुल चार अधिकारियों के खिलाफ यह मामला दर्ज किया है। चारों अधिकारियों पर बैंकों के साथ धोखाधड़ी करने वाली कंपनी के खिलाफ जांच के दौरान रिश्वत लेकर समझौता करने के आरोप हैं। लिहाज़ा सीबीआई ने अपने चारों अधिकारियों के कुल 14 ठिकानों पर छापेमारी की है। 

अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में गुरुवार को सीबीआई ने गाजियाबाद अपनी प्रशिक्षण अकादमी सहित कुल 14 ठिकानों पर छापेमारी की। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गाज़ियाबाद के अलावा मेरठ, कानपुर, दिल्ली, नोएडा और गुड़गांव सहित 14 स्थानों पर छापेमारी कर आरोपियों के ठिकानों पर तलाशी ली गई। 

 सीबीआई ने जिन चार अधिकारियों के ठिकानों पर छापेमारी की है, उसमें दो पुलिस उपाधीक्षक, एक स्टेनो और एक निरीक्षक शामिल है। उपाधीक्षक आरके ऋषि और आरके सांगवान, निरीक्षक कपिल धनकड़ और स्टेनो संतोष कुमार सिंह के ठिकानों पर छापेमारी की है। 

इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी एक रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया है कि ये अधिकारी करीब 3500 करोड़ के बैंक फ्रॉड केस की जांच में शामिल हैं। अंग्रेज़ी अख़बार के मुताबिक इस मामले की जांच के दौरान इन अधिकारियों पर बैंकों के साथ धोखाधड़ी करने वाली कंपनी के साथ सूचना साझा करने के आरोप हैं। अधिकारियों पर आरोप है कि इन्होंने कंपनी के अधिकारियों के साथ सूचना साझा करने के बदले हर महीने रिश्वत भी ली है।