मोदी सरकार को कार्टूनिस्ट मंजुल से ऐतराज, ट्विटर हैंडल बर्खास्त कराने का प्रयास

केंद्र सरकार ने ट्विटर से कहा है कि मंजुल का ट्वीट भारतीय कानून का उल्लंघन करता है, ट्विटर ने इस बात की जानकारी मंजुल को दी, कंपनी ने कार्टूनिस्ट के खिलाफ कोई कार्रवाई भी नहीं किया है

Updated: Jun 06, 2021, 03:04 PM IST

मोदी सरकार को कार्टूनिस्ट मंजुल से ऐतराज, ट्विटर हैंडल बर्खास्त कराने का प्रयास

नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार ने मशहूर पॉलिटिकल कार्टूनिस्ट मंजुल के कार्टून्स को लेकर ऐतराज जताया है। सरकार ने उनके कार्टून्स को भारतीय कानूनों का उल्लंघन बताते हुए ट्विटर से उनके अकांउट के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है। हालांकि, ट्विटर ने केंद्र की मांग को खारिज करते हुए कोई कार्रवाई नहीं कि है। कंपनी ने मंजुल को ईमेल भेजकर इस बात की जानकारी भी दी है।

ट्विटर ने मंजुल को बताया है कि केंद्र ने उनके किसी एक ट्वीट को लेकर ऐतराज नहीं जताया है बल्कि उनके हैंडल को ही गैर कानूनी गतिविधियों वाला बताया है। कंपनी ने मंजुल को कहा है कि हम अपने यूजर्स की आवाज का सम्मान करते हैं और उसे डिफेंड करते हैं। जब भी किसी कंटेंट के खिलाफ हमें ऑथोरिटी की ओर से लीगल रिक्वेस्ट आते हैं, तो हम यूजर्स को इसकी जानकारी देते हैं। ये हमारी पॉलिसी है।

यह भी पढ़ें: RSS नेताओं को राहत, सरकारी चेतावनी के बाद ट्विटर ने लौटाया ब्लू टिक

कंपनी ने लोकप्रिय कार्टूनिस्ट को चार विकल्प भी सुझाए हैं। ट्विटर द्वारा सुझाए विकल्पों में पहला है सरकार के नोटिस को न्यायालय में चुनौती देना, दूसरा- किसी तरह के निवारण के लिए सामाजिक संगठनों से संपर्क करना, तीसरा स्वैच्छिक रूप से कंटेंट को डिलीट करना (अगर लागू हो) और चौथा कोई अन्य समाधान ढूंढना। 

ट्विटर के मेल का स्क्रीनशॉट पोस्ट करते हुए मंजुल ने ट्वीट किया, 'जय हो मोदी जी की सरकार की! शुक्र है मोदी सरकार ने ट्विटर को ये नहीं लिखा कि ये ट्विटर हैंडल बन्द करो। ये कार्टूनिस्ट अधर्मी है, नास्तिक है। मोदी जी को भगवान नहीं मानता। वैसे अगर सरकार बता देती कि  दिक़्क़त किस ट्वीट से तो अच्छा रहता. दोबारा वैसा ही काम किया जा सकता था। और लोगों को भी सुविधा हो जाती।'

यह भी पढ़ें: क्या यूपी में बदल जाएगा सत्ता का रंग, योगी के गोरखपुर लौटने की चर्चाएं शुरू, पीएम मोदी ने नहीं दी बधाई

देश के लोकप्रिय कार्टूनिस्ट के बारे में धारणा बनाने को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ लोगों का गुस्सा देखने को मिल रहा है। कई दिग्गज हस्तियों ने मंजूल का समर्थन किया है। कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कहा है कि हम मंजूल का समर्थन करते हैं। उन्होंने पूर्व पीएम दिवंगत जवाहरलाल नेहरू को याद करते हुए कहा है कि कितना बदल गया है, नेहरू खुद को लेकर बने जोक्स पर भी हंसने का साहस रखते थे। आज हमारे पास मोदी जी हैं। 

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा कि, 'मैं पहले उम्मीद कर रहा था कि, ये किसी तरह की मनघड़ंत कहानी या पैरोडी होगी। लेकिन बाद में पता चला कि ये सत्य है।' मंजूल की तरह क्रिएटिव कार्टून्स बनाने वाले सतीश आचार्य ने लिखा, 'प्रिय सरकार, कृप्या कार्टूनिस्ट्स को टारगेट करना बंद करें। कार्टून बनाने वाले हमेशा से ही विपक्ष के साथ खड़े रहते हैं और जब आप विपक्ष की भूमिका में होंगे तो आपको भी कार्टूनिस्टों की जरूरत पड़ेगी।' 

आरजेडी सांसद मनोज कुमार झा ने इस बात को लेकर प्रधानमंत्री मोदी की तुलना सनकी हिटलर से की है। आरजेडी नेता ने हिटलर से जुड़ी एक क्रिएटिव कार्टून साझा करते हुए लिखा है कि बिना कैप्शन लिखे मंजूल के समर्थन में।