कुर्सी जाने का दुख नहीं, लेकिन मेरी पीठ में खंजर भोंका गया है: शिंदे सरकार बनने पर बोले उद्धव ठाकरे

उद्धव ठाकरे ने कहा कि एकनाथ शिंदे शिवेसना के मुख्यमंत्री नहीं हैं, यह घटना रातों रात की नहीं थी बल्कि लंबे वक्त से यह खेल चल रहा था

Updated: Jul 01, 2022, 03:03 PM IST

कुर्सी जाने का दुख नहीं, लेकिन मेरी पीठ में खंजर भोंका गया है: शिंदे सरकार बनने पर बोले उद्धव ठाकरे

मुंबई। शिवसेना के ही बागी नेता एकनाथ शिंदे के महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनने के बाद शुक्रवार को पहली बार उद्धव ठाकरे ने लाइव आकर अपनी बातें रखी। उद्धव ठाकरे ने कहा कि एकनाथ शिंदे शिवेसना के मुख्यमंत्री नहीं हैं। जिस तरह से प्रदेश में सत्ता का खेल खेला गया है, उससे लोकतंत्र का मजाक बना है। मुझे कुर्सी जाने का दुख नहीं है, लेकिन मेरी पीठ में खंजर भोंका गया।

उद्धव ठाकरे ने आगे कहा कि, 'ये जो कल हुआ, मैं पहले ही अमित शाह से कहा था कि ढाई साल तक शिवसेना का मुख्यमंत्री हो और वही हुआ। पहले ही अगर ऐसा करते तो महा विकास अघाडी का जन्म ही नहीं होता। अगर मेरी बात मानी होती तो ढाई साल बीजेपी का मुख्यमंत्री रहता, अब 5 साल तक बीजेपी का मुख्यमंत्री होने वाला नहीं है।'

यह भी पढ़ें: नूपुर शर्मा को पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए, उदयपुर की घटना के लिए वही जिम्मेदार: सुप्रीम कोर्ट

ठाकरे ने एक बार फिर से दोहराया कि एकनाथ शिंदे शिवसेना के मुख्यमंत्री नहीं हैं। उन्होंने कहा, ‘ जिस तरह से सरकार बनी है और एक तथाकथित शिवसेना कार्यकर्ता को मुख्यमंत्री बनाया गया है, मैंने अमित शाह से यही कहा था। ये सम्मानपूर्वक किया जा सकता था। शिवसेना आधिकारिक तौर पर उस समय आपके साथ थी। ये मुख्यमंत्री (एकनाथ शिंदे) शिवसेना के नहीं हैं।'

उद्धव ने आगे कहा, 'मैं प्रदेश की जनता और शिवसैनिकों से कहना चाहूंगा कि उनसे कभी गद्दारी नहीं करूंगा। आप लोगों से जो प्यार मिला है, उसे भुला नहीं सकता। सत्ता तो आती और जाती रहती है। उन्होंने कहा कि एकनाथ शिंदे और बागी विधायकों से हमने बात की, लेकिन वे माने नहीं। साफ है कि यह घटना रातों रात की नहीं थी बल्कि लंबे वक्त से यह खेल चल रहा था।'