गणतंत्र दिवस हिंसा में घायल पुलिस वालों की संख्या बढ़कर 313 हुई, अब तक 22 FIR दर्ज

हंगामे में शामिल लोगों की CCTV कैमरों की मदद से पहचान करने के बाद और केस भी दर्ज हो सकते हैं, टिकरी, सिंघु बॉर्डर के अलावा लालक़िले पर भी सुरक्षा बढ़ाई गई

Updated: Jan 27, 2021, 11:44 AM IST

गणतंत्र दिवस हिंसा में घायल पुलिस वालों की संख्या बढ़कर 313 हुई, अब तक 22 FIR दर्ज
Photo Courtesy: India TV

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर हुए हंगामे, तोड़फोड़ और हिंसा के सिलसिले में पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने इस सिलसिले में अब तक 22 एफआईआर दर्ज की हैं। मंगलवार को हुई घटनाओं में घायल पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़कर 313 हो चुकी है। ये जानकारी अब से थोड़ी देर पहले आई एक मीडिया रिपोर्ट में दी गई है। कल की हिंसा के दौरान पुलिस से हुए टकराव के दौरान प्रदर्शनकारी भी बड़ी संख्या में घायल हुए थे, जबकि एक किसान की मौत हो गई थी। पुलिस हंगामे वाली जगहों पर लगे तमाम सीसीटीवी (CCTV) कैमरों के फ़ुटेज को खंगालकर आरोपियों की पहचान में लगी है। जिसके बाद और एफआईआर दर्ज की जा सकती हैं।

एक अख़बार में आई ख़बर के मुताबिक़ कल के बवाल के सिलसिले में दिल्ली के इंद्रप्रस्थ पुलिस स्टेशन में दर्ज एक एफआईआर में अज्ञात प्रदर्शनकारियों के साथ-साथ उस किसान के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है, जिसकी ट्रैक्टर पलटने की वजह से मौत हो गई थी। 

मंगलवार की घटनाओं के बाद से दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर सुरक्षा बंदोबस्त और बढ़ा दिए गए हैं। पिछले दो महीने के जारी किसानों के प्रदर्शन का सबसे बड़ा केंद्र सिंघु बॉर्डर ही बना हुआ है। इसके अलावा टिकरी बॉर्डर पर भी सुरक्षा के इंतज़ाम पहले से और सख़्त कर दिए गए हैं। ग़ाज़ीपुर बॉर्डर समेत उन सभी जगहों पर भी सुरक्षा बढ़ाई गई है, जहां आंदोलनकारी किसानों का जमावड़ा है।

इसके अलावा केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मंगलवार शाम को दिल्ली-एनसीआर के कई इलाक़ों में इंटरनेट सेवाएँ बंद करवा दीं। उस वक़्त जारी निर्देश के मुताबिक़ सिंघु, गाजीपुर, टिकरी, मुकरबा चौक, नांगलोई और उसके आसपास के इलाक़ों में भी रात 12 बजे तक इंटरनेट सेवा बंद करने को कहा गया था। लेकिन ऐसी ख़बरें आईं कि इनके अलावा दिल्ली-एनसीआर के कई और इलाक़ों में भी इंटरनेट बंद कर दिया गया था। कुछ इलाक़ों में तो आज सुबह तक इंटरनेट सेवा बहाल नहीं होने की ख़बर है। दिल्ली से सटे तीन जिलों सोनीपत, पलवल और झज्जर में भी इंटरनेट सर्विस बंद किए जाने की ख़बरें हैं।

लाल किला हिंसा मामले में भी कोतवाली थाने में एफआईआर दर्ज की गई है। लालक़िले में धार्मिक झंडा फहराने के आरोपी पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू को NIA की तरफ़ से पूछताछ के लिए नोटिस दिए जाने की ख़बर भी मीडिया में आ चुकी है। किसान नेताओं ने भी आरोप लगाया है कि दीप सिद्धू ने ही युवाओं को रैली का तय रास्ता छोड़कर लाल क़िले की तरफ़ जाने और फिर लाल क़िले पर क़ब्ज़ा करने के लिए उकसाया था। सिद्धू ने ख़ुद भी एक वीडियो जारी करके लाल क़िले पर धार्मिक झंडा फहराने की बात मानी है। हालाँकि उसने युवाओं को उकसाने के आरोपों से इनकार किया है। दीप सिद्धू की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी सांसद सन्नी देओल और हेमा मालिनी के साथ तस्वीरें भी खूब वायरल हो रही हैं। दीप सिद्धू सनी देओल के लिए चुनाव प्रचार भी कर चुका है। दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे आंदोलन के दौरान सिद्धू लगातार किसान नेताओं के ख़िलाफ़ बोलता रहा है।