पलामू सर्किट हाउस में ठहरे लालू यादव के कमरे में लगी आग, बाल-बाल बचे आरजेडी चीफ

झारखंड के पलामू में ठहरे बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री लालू प्रसाद यादव के कमरे में लगे पंखे में शॉर्ट सर्किट की वजह से आग लग गई, हालांकि सेवादारों की तत्परता से बड़ी घटना टल गई

Updated: Jun 07, 2022, 01:26 PM IST

पलामू सर्किट हाउस में ठहरे लालू यादव के कमरे में लगी आग, बाल-बाल बचे आरजेडी चीफ
Photo Courtesy: Theprint

पलामू। झारखंड के पलामू स्थित सर्किट हाउस में ठहरे बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री लालू प्रसाद यादव के कमरे में मंगलवार सुबह अचानक आग लग गई। आग जिस कमरे में लगी है, उसी कमरे में राजद सुप्रीमो लालू यादव ठहरे हुए हैं। हालांकि इस घटना में किसी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ है। सेवादारों की सूझबूझ और तत्परता से बड़ा हादसा टल गया।

दरअसल, 8 जून को लालू यादव को आचार संहिता उल्लंघन मामले में अदालत में पेश होना है। इसी सिलसिले में वे सोमवार को हेलीकॉप्टर से पलामू पहुंचे। यहां वे परिसदन में ठहरे हुए हैं। पलामू सर्किट हाउस में लालू यादव से मिलने के लिए उनके समर्थकों का जमावड़ा लगा हुआ है।

जानकारी के अनुसार राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव सुबह करीब 8:30 बजे अपने कमरे में नाश्ता कर रहे थे। इसी दौरान अचानक कमरे में लगे पंखे में आग लग गयी। लालू यादव की सेवा में लगे कर्मी ने तत्काल बिजली कनेक्शन काटा। इससे बड़ी घटना टल गयी। आग लगने की घटना पूरे परिसदन परिसर में आग की तरह फैल गयी।

यह भी पढ़ें: पैगंबर पर टिप्पणी के बाद एक्शन, बीजेपी ने 38 बड़बोले नेताओं की लिस्ट बनाई, मुंह बंद रखने की हिदायत

बाहर में श्री यादव से मिलने के लिए इंतजार कर रहे नेता व कार्यकर्ता कमरे की तरफ भागे। कुछ देर के लिए अफरा-तफरी का माहौल हो गया। हालांकि, कार्यकर्ताओं को जब जानकारी मिली की आरजेडी चीफ पूरी तरह सुरक्षित हैं तब उन्होंने राहत की सांस ली।

बता दें कि जेल से बाहर आने के बाद लालू यादव बीजेपी के खिलाफ लगातार हमलावर हैं। रविवार को संपूर्ण क्रांति दिवस के मौके पर उन्होंने कहा कि, 'आज देश के हालात फिर वही हो गए हैं। तानाशाही और धूर्त सत्ता हमारे देश के भाईचारे और एकता को नष्ट करना चाहती है। बीजेपी जिस तरह काम कर रही है, उससे देश गृहयुद्ध की ओर बढ़ रहा है। मैं लोगों से देश में महंगाई, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार के खिलाफ एकजुट होने का आह्वान करता हूं। हमें एकजुट होकर लड़ना है। हम जीतेंगे।'