देश में संविधान और कानून तब तक ही है जब तक हिंदू बहुसंख्यक हैं, गुजरात के डिप्टी सीएम का विवादित बयान

गुजरात के डिप्टी सीएम नितिन पटेल ने कहा है कि जिस दिन देश में हिंदू बहुसंख्यक नहीं रहेंगे, उस दिन इस देश में न तो कानून रहेगा, और न ही संविधान या धर्मनिरपेक्षता रहेगी

Publish: Aug 28, 2021, 01:17 PM IST

देश में संविधान और कानून तब तक ही है जब तक हिंदू बहुसंख्यक हैं, गुजरात के डिप्टी सीएम का विवादित बयान
Photo Courtesy: The Indian Express

नई दिल्ली। गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल पर एक समुदाय विशेष के खिलाफ भड़काऊ बयानबाजी करने का आरोप लगा है। बीजेपी नेता नितिन पटेल ने एक सार्वजनिक मंच से यह दावा किया है कि इस देश में कानून, संविधान और धर्मनिरपेक्षता तभी तक के लिए है, जब तक कि हिंदू बहुसंख्यक हैं। जिस दिन हिंदू अल्पसंख्यक हो जाएंगे, उस दिन न तो देश में कानून बचेगा और न ही संविधान। 

गुजरात के डिप्टी सीएम ने जिस समय यह विवादित बयान दिया उस दौरान प्रदेश के गृह मंत्री प्रदीप सिंह जडेजा के साथ साथ आरएसएस और वीएचपी के नेता भी मौजूद थे। नितिन पटेल ने यह बयान गांधीनगर स्थित भारत माता मंदिर के मूर्ति प्रतिष्ठा महोत्सव को संबोधित करते हुए दिया। यह कार्यकर्म विश्व हिंदू परिषद द्वारा आयोजित किया गया था। 

नितिन पटेल ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे देश में कुछ लोग संविधान और धर्मनिरपेक्षता की बात करते हैं। लेकिन आप मेरी बात लिख कर ले लीजिए, चाहे तो इसका वीडियो रिकॉर्ड कर लीजिए। जो भी लोग संविधान, कानून और धर्मनिरपेक्षता की बात करते हैं, वो तब तक ही इन चीजों की बात कर पाएंगे, जब तक इस देश में हिंदू बहुसंख्यक हैं। लेकिन जिस दिन हिंदुओं की संख्या घटने लगेगी और दूसरों की संख्या बढ़ने लगेगी, उस दिन कोई लोकसभा, कोई संविधान, कोई धर्मनिरपेक्षता इस देश में नहीं बचेगी। इस देश में कुछ भी नहीं बचेगा। 

करीब 40 मिनट तक दिए गए अपने भाषण में नितिन पटेल ने कहा कि मैं यह भी स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि मैं सबकी बात नहीं कर रहा। देश में लाखों मुसलमान और ईसाई देशभक्त हैं। हजारों मुसलमान सेना में हैं। गुजरात में हजारों मुसलमान पुलिस में काम करते हैं। ये सभी देशभक्त हैं।

बीजेपी नेता के इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर विरोध शुरू हो गया है। सोशल मीडिया पर लोग कह रहे हैं कि बीजेपी का असली चेहरा यही है। अलग अलग धर्मों के लोगों को एक दूसरे के खिलाफ भड़काना और उनके बीच खाई पैदा करना ही बीजेपी का असली चेहरा है। जिसे बीजेपी नेता ने खुद एक्सपोज कर दिया है।