बाबा रामदेव की दवा कोरोनिल को मुफ़्त बांटेगी हरियाणा सरकार, गृह मंत्री अनिल विज़ ने की 1 लाख किट देने की घोषणा

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन एलोपैथिक डॉक्टरों के ख़िलाफ़ बयान पर रामदेव से माफी मांगने के लिए कह चुके हैं.. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने तो रामदेव के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की है.. मगर हरियाणा की भाजपा सरकार के रुख़ रामदेव के पक्ष में है

Updated: May 25, 2021, 10:04 AM IST

बाबा रामदेव की दवा कोरोनिल को मुफ़्त बांटेगी हरियाणा सरकार, गृह मंत्री अनिल विज़ ने की 1 लाख किट देने की घोषणा
Photo Courtesy: Amar Ujala

चंडीगढ़। एलोपैथी दवाओं के खिलाफ विवादास्पद बयान देने के बाद आलोचनाओं में घिरे बाबा रामदेव की दवा को हरियाणा सरकार ने बांटने का मन बनाया है। हरियाणा की भाजपा शासित सरकार कोरोनिल के एक लाख किट मुफ्त में बांटेगी। किट बांटने का आधा खर्च रामदेव की कंपनी पतंजलि और हरियाणा सरकार आधा आधा वहन करेंगी।

रामदेव की दवा मुफ्त में बांटने की घोषणा खुद राज्य के गृह मंत्री अनिल विज ने की है।अनिल विज ने सोमवार शाम अपने ट्विटर हैंडल पर इस बात की घोषणा करते हुए कहा कि हरियाणा में कोविड मरीजों के बीच एक लाख पतंजलि की कोरोनिल किट मुफ्त बांटी जाएंगी । कोरोनिल का आधा खर्च पतंजलि ने और आधा हरियाणा सरकार के कोविड राहत कोष ने वहन किया है।

यह भी पढ़ें : ऑक्सीजन की कमी से नहीं, एलोपैथिक दवाइयों के कारण हुई लाखों लोगों की मौत, बाबा रामदेव का विवादित बयान

इस समय बाबा रामदेव एलोपैथी दवाओं की आलोचना को लेकर चौतरफा घिरे हुए हैं। रामदेव ने कहा था कि लाखों लोगों की मौत ऑक्सीजन की कमी के कारण नहीं बल्कि एलोपैथी दवाओं के कारण हुई है। रामदेव के इस विवादित बयान के बाद जमकर हंगामा मच गया। आईएमए ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को पत्र लिखकर रामदेव के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। जवाब में हर्षवर्धन ने रामदेव को पत्र लिखकर माफी मांगने के लिए कहा। 

यह भी पढ़ें : एलोपैथी को लेकर मूर्खतापूर्ण टिप्पणी पर घिरे रामदेव, स्वास्थ्य मंत्री बोले- दुर्भाग्यपूर्ण बयान वापस लें

इसके जवाब में रामदेव ने हर्षवर्धन को कहा कि जिस समय उन्होंने यह बयान दिया था, वो उनके वॉट्सएप पर आए संदेश को पढ़ रहे थे। एलोपैथी ने काफी प्रगति की है लेकिन आयुर्वेद से भी हमने कितने ही लोगों की जान बचाई है। रामदेव के बयान के पीछे अपनी दवा कोरोनिल के प्रचार की मंशा का प्रमुखता के साथ वर्णन किया जा रहा था। 

यह भी पढ़ें : बाबा रामदेव के अवैज्ञानिक बयानों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करे सरकार, IMA ने स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को लिखा पत्र

अब जिस तरह से हरियाणा की भाजपा सरकार ने कोरोनिल के एक लाख किट मुफ्त में बांटने का निर्णय किया है, उसके बाद से एक बार फिर बीजेपी से रामदेव की संबंधों की चर्चा ने ज़ोर पकड़ लिया है। इससे पहले रामदेव अपने एक भ्रामक प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह झूठ फैला चुके हैं कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने उनकी दवा को मान्यता दी है। उस प्रेस कॉन्फ्रेंस में केन्द्रीय स्वास्थ मंत्री हर्षवर्धन और केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी भी शामिल थे।