पेगासस जासूसी कांड पर टीएमसी ने घोड़ों के साथ निकाला जुलूस, मदन मित्रा ने बांधी आंखों पर पट्टी

पेगासस जासूसी कांड को लेकर टीएमसी लगातार सरकार से बात करने के लिए कह रही है, पश्चिम बंगाल सरकार ने इस मामले में जांच के लिए दो जजों का एक आयोग भी गठित किया है

Updated: Jul 29, 2021, 06:10 PM IST

पेगासस जासूसी कांड पर टीएमसी ने घोड़ों के साथ निकाला जुलूस, मदन मित्रा ने बांधी आंखों पर पट्टी
Photo Courtesy : ANI

कोलकाता। पेगासस जासूसी कांड के खिलाफ अब टीएमसी ने कोलकाता में भी मोर्चा खोल दिया है। कोलकाता की सड़कों पर आज तृणमूल कांग्रेस ने घोड़ों के साथ जूलुस निकाला। इस जुलूस में टीएमसी के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। खुद टीएमसी नेता मदन मित्रा ने आंखों पर काली पट्टी बांध कर पेगासस जासूसी कांड के मसले पर मोदी सरकार के खिलाफ हुंकार भरी।  

पेगासस जासूसी कांड को लेकर टीएमसी के हमलावर रुख के पीछे सबसे बड़ा कारण यह है कि इज़राइली सोफ्टवेयर के ज़रिए ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के फोन हैकिंग का खुलासा हुआ है। इस सिलसिले में पश्चिम बंगाल सरकार ने भी दो रिटायर्ड जजों के एक आयोग का गठन किया है। जो कि इस मामले में जांच करेगी।  

उधर दिल्ली में भी टीएमसी के सांसद दोनों ही सदनों में इस मुद्दे को ज़ोरों शोरों से उठा रहे हैं। ममता बनर्जी खुद भी इस समय दिल्ली दौरे पर हैं। मंगलवार को प्रधानमंत्री से मुलाकात करने के ठीक बाद ममता बनर्जी ने पेगासस मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जांच किए जाने की मांग की थी। ममता ने यह भी कहा था कि इस मसले पर प्रधानमंत्री को एक सर्वदलीय बैठक भी बुलानी चाहिए।        

यह भी पढ़ें ः मत करो संसद का समय व्यर्थ, करने दो राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों पर बात, राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर बोला हमला

वहीं कांग्रेस पार्टी और खासकर राहुल गांधी इस मामले को लगातार उठा रहे हैं। वे लगातार सरकार को इस मसले पर घेर रहे हैं। राहुल गांधी संसद में सरकार को पेगासस मसले पर सवाल जवाब करने के लिए कह रहे हैं। लेकिन सरकार इस मसले पर किसी तरह की बातचीत के लिए तैयार नहीं है।