वाराणसी: समय पर इलाज न मिलने से बेटे की हुई मौत, शव को अस्पताल से ले जाने के लिए नहीं मिली असहाय मां को एम्बुलेंस

बीएचयू के सुंदरलाल अस्पताल का मामला, सुंदरलाल चिकित्सालय में किडनी की बीमारी से जूझ रहे एक शख्स की मौत हो गई, युवक की मृत्यु के बाद मां को बेटे का शव को अस्पताल से ले जाने के लिए एम्बुलेंस तक नहीं मिली

Updated: Apr 20, 2021, 06:49 PM IST

वाराणसी: समय पर इलाज न मिलने से बेटे की हुई मौत, शव को अस्पताल से ले जाने के लिए नहीं मिली असहाय मां को एम्बुलेंस

वाराणसी। पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में एक हृदय विदारक घटना सामने आई है। सोशल मीडिया पर इस समय एक बेसहारा मां की तस्वीर वायरल हो रही है, जो ई रिक्शा पर अपने जवान बेटे की लाश लिए हुए परेशान है। बेटे की किडनी की बीमारी के कारण मौत हो गई। लेकिन असहाय मां को अपने बेटे के शव को ले जाने के लिए अस्पताल से एम्बुलेंस तक नहीं मिली। 

यह घटना बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के सुंदरलाल चिकित्सालय में किडनी की बीमारी से जूझ रहा एक शख्स भर्ती था। लेकिन समय पर इलाज न हो पाने के कारण मौत हो गई। युवक की मौत के बाद उसके शव को ले जाने के लिए अस्पताल द्वारा एम्बुलेंस तक मुहैया नहीं कराई गई। मृतक की मां ई रिक्शा से अपने बेटे को ले जाने पर मजबूर हो गई। 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मृतक युवक मुंबई में काम करता। रिश्तेदार की शादी में वो जौनपुर आया था। इसी दौरान अचानक उसकी तबीयत बिगड़ गई। जिसके बाद उसे इलाज के लिए वाराणसी ले जाया गया। लेकिन इलाज के अभाव में युवक की मौत हो गई। 

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इस घटना के सामने आने के बाद प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना की है। प्रियंका गांधी ने कहा है, 'ये देश के प्रधानमंत्री जी के संसदीय क्षेत्र का हाल है। ये उस जगह का हाल है जिसको क्योटो बनाने का वादा किया गया था।इलाज न मिलने के स्थिति में एक बेटे की अपनी मां के कदमों में मौत हो गई। वो ई रिक्शा में पड़ा रहा एम्बुलेंस तक नसीब नहीं हुई। बहुत ही निर्दयी सरकार है ये।'