किसान के बेटे से 500 करोड़ की संपत्ति का मालिक

Vikas Dubey : अपराध की दुनिया में आकर जमा की अकूत संपत्ति

Publish: Jul-11, 2020, 01:29 AM IST

किसान के बेटे से 500 करोड़ की संपत्ति का मालिक

कानपुर। लगभग तीन दशकों से अपराध की दुनिया में सक्रिय रहे विकास दुबे की धन संपत्ति समय के साथ बढ़ती गई। बताया जा रहा है कि वो 500 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति का मालिक था। उसने अपना एक पर्सनल एकाउंट मैनेजर भी रख रखा था, जो अभी पुलिस की गिरफ्त में है। विकास दुबे एक किसान का बेटा था जिसने अपराध की दुनिया में आकर अकूत संपत्ति जमा कर ली। इसके लिए उसे नेताओं और आला अधिकारियों से संरक्षण मिलता रहा।

कानपुर के चौबेपुर क्षेत्र के बिकरू गांव में दो और तीन जुलाई को हुई मुठभेड़ में आठ पुलिकर्मियों की हत्या करने के मामले में मुख्य आरोपी विकास दुबे की संपत्ति को लेकर पुलिस ने बताया कि इसकी एक लिस्ट बनाई जा रही है। बताया जा रहा  है कि आयकर विभाग इस संबंध में जांच करेगा और क्योंकि अब मनी लॉन्ड्रिंग की भी आशंका है इसलिए ईडी को भी इसमें जोड़ा जाएगा। बताया जा रहा है कि वो चौबेपुर के पास स्थित औद्योगिक इकाइयों के मालिकों से भी लाखों की वसूली करता था। उसका खौफ इतना था कि विभिन्न उद्योगपति खुद ही सालाना तौर पर चंदा भेजते थे।  

विदेशों में भी संपत्ति

जानकारी के अनुसार विकास दुबे और उसके करीबियों की दुबई से लेकर दूसरे देशों तक में करोड़ों की प्रॉपर्टी है। पुलिस सूत्रों के अनुसार जांच में अब तक यह सामने आया है कि आठ महीने पहले शहर में पांच करोड़ की एक प्रॉपर्टी खरीदी गई है। बैंकाक में एक होटल में निवेश के सूत्र मिले हैं। अब तक 12 मकान और 21 फ्लैट की जानकारी मिल चुकी है। उसका एक बेटा इंग्लैंड में पढ़ रहा है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार विकास दुबे के एक करीबी के पास कानपुर के आर्यनगर और 80 फिट रोड इलाके में 28 करोड़ की प्रॉपर्टी है। इसमें दो चकों में 6 प्रॉपर्टी हैं। जिनकी कीमत 20 करोड़ के आसपास है। विकास के इस करीबी के पास आर्यनगर के एक अपार्टमेंट में आठ फ्लैट हैं, जिनकी कीमत 5 करोड़ रुपए है। पनकी में एक ड्यूप्लैक्स बंगला भी है। इसकी अनुमानित कीमत 2 करोड़ रुपए है। बताया जाता है कि फरवरी में वह विदेश गया था जहाँ उसके प्रॉपर्टी में निवेश की आशंका है।

वहीं विकास दुबे ने जमीनों पर भी अवैध कब्जा किया है। ये जमीनें चौबेपुर, बिल्हौर, मंधना, शिवराजपुर, शिवली और बिठूर में हैं। लखनऊ के इंदिरानगर में कई आलीशान मकान हैं। कल्याणपुर के मकड़ीखेड़ा में कई संपत्तियां है और इन जमीनों की कीमत 50 करोड़ से अधिक बताई जाती है। उसके और उसके परिवार के नाम करीब 250 बीघा जमीन है।

विकास दुबे ने ये सारी संपत्तियां और जमीन अवैध रूप से या तो हथियाई है या अपनी धौंस दिखाकर कब्जा किया है। कानपुर पुलिस के मुताबिक शिवली के शोभन में विकास ने अपने भाई दीपू दुबे के नाम करीब 20 बीघा जमीन खरीदी थी। बिकरू, दिलीपनगर, काशीराम, निवादा में भी उसके और रिश्तेदारों के नाम पर कई प्लॉट और खेत हैं।